शनिवार, 18 नवंबर 2017

doha salila

दोहा सलिला
*
मन की मन में ही रखो, सब से कहो न बात
साथ न ताम में छाँव दे, अपने करते घात
*
अक्षर मिलकर शब्द बन, हमें बताते अर्थ
'सलिल' न जो मिलकर रहें, उनका जीवन व्यर्थ
*
उग बढ़ झड पत्ते रहे, रहे न कुछ भी जोड़
सीख न लेता कुछ मनुज, कब चाहे दे छोड़?
*
लट्टू पर लट्टू हुए, दिया न आया याद
जब बिजली गुल हो गयी, तब करते फ़रियाद
*
बना बतंगड़ बात का, उड़ी खूब अफवाह
बिना सत्य जाने करें, क्यों सद्भाव तबाह?
*
सुमन न देता अंजुमन, कहता लाओ मोल
चकित खड़ा माली रहा अपनी जेब टटोल 
*
ले-देकर सुलझा रहे, मंदिर-मस्जिद लोग
प्रभु से पहले लग रहा, भक्तों को ही भोग
*
सही-गलत जाने बिना, बेमतलब आरोप
लगा नासमझ दिखाते, अपनों पर ही कोप 
*
लोकतंत्र में धमकियाँ, क्यों देते हम-आप
संविधान की अदेखी, दंडनीय है पाप
*
नादां हैं आतंक को, अगर रहे हैं पाल
जला रहे हैं हाथ निज, मगर न गलती दाल
*
मुखड़े को लाइक मिलें, रचना से क्या काम?
हुए भले बदनाम हम, हुआ दूर तक नाम
*





कोई टिप्पणी नहीं: