रविवार, 19 नवंबर 2017

ghanakshree

घनाक्षरी 
*
सच बात जाने बिना, अफ़वाहे सच मान, धमकी जो दे रहे हैं, नादां राजपूत हैं। 
सत्य के न न्याय के वे, साथ खड़े हो रहे हैं, मनमानी चाहते हैं, दहशत-दूत हैं।।
जातिवादी सोच हावी, जाने कैसी होगी भावी?, राजनीति के खिलौने, दंभी भी अकूत हैं।
संविधान भूल रहे, अपनों को हूल रहे, सत्पथ भूल रहे, शांति रहे लूट  हैं।।  
*    

कोई टिप्पणी नहीं: