बुधवार, 29 नवंबर 2017

doha- nar-naree ke

दोहा सलिला
.
नारी के दो-दो जगत,
वह दोनों की शान. 
पाती है वरदान वह,
जब हो कन्यादान.
.
नारी को माँगे बिना,
मिल जाता नर-दास.
कुल-वधु ले नर दान में,
सहता जग-उपहास.
.
दल-बल सह जा दान ले,
भिक्षुक नर हो दीन.
नारी बनती स्वामिनी,
बजा चैन से बीन.
.
चीन्ह-चीन्ह आदेश दे,
हक लेती है छीन. 
समता कर सकता न नर,
कोशिश नाहक कीन.
.
दो-दो मात्रा अधिक है,
नारी नर से जान.
कुशल चाहता तो कभी,
बैर न उससे ठान.
.
यह उसका रहमान है,
वह इसकी रसखान.
उसमें इसकी जान है,
इसमें उसकी जान.
...
www.divyanarmada.in, ९४२५१८३२४४ 
#हिंदी_ब्लॉगर 

कोई टिप्पणी नहीं: