सोमवार, 13 नवंबर 2017

दोहा

चित्र गुप्त पर ब्रम्ह का,
जीव ब्रम्ह के रूप.
जीव  जीव को खा रहा,
खोजे कहाँ अरूप?

कोई टिप्पणी नहीं: