सोमवार, 4 दिसंबर 2017

muktak chhand harigitikaa

मुक्तक
.
संवेदना की सघनता
वरदान है, अभिशाप भी.
अनुभूति की अभिव्यक्ति है
चीत्कार भी, आलाप भी.
निष्काम हो या कामकारित
कर्म केवल कर्म है-
पुण्य होता आज जो, होता
वही कल पाप है.
छंद- हरिगीतिका
...

कोई टिप्पणी नहीं: