स्तम्भ menu

Drop Down MenusCSS Drop Down MenuPure CSS Dropdown Menu

मंगलवार, 27 अगस्त 2013

geet: sampat devi muraraka

गीत
जो जितना देता है जग में, उतना ही वह पाता है 
सम्पत देवी मुरारका 

जो जितना देता है जग में, उतना ही वह पाता है |
यह संसार बहुत सुंदर है, यह अपना सपनों का घर है ||

यहाँ कन्हैया रास रचाता, यहाँ गूंजता वंशी-स्वर है |
सत्यम्शिवम्,  सुंदरम वाली, यह धरती सबकी माता है ||

गंगा-यमुना के प्रवाह में, पाप सभी के धुल जाते है |
यहाँ धर्म-मजहब के नाते, हँसी खुशी से निभ जाते है ||

अनुपम यहाँ प्रकृति की शोभा, सबके ह्रदय विरम जाते है |
ढाई आखर प्रेम की भाषा, बन जाती अपनी परिभाषा ||

यहाँ निराशा नहीं फटकती, यहाँ रंगोली रचती आशा |
सुन्दर उपवन जैसा भारत, सबके मन को हर्षाता है ||

सावन में हैं झूले पड़ते, होली में मृदंग हैं बजाते |
तुलसी यहाँ राम गुण गाते, और कबीरा निर्गुण कहते || 

इस माटी का तिलक लगाओ, माटी से सबका नाता है | 
जो जितना देता है जग में, उतना ही वह पाता है || 
========================================
Smt. Sampat Devi Murarka
Writer, Poetess, Journalist
Srikrishan Murarka Palace, 
# 4-2-107/110, 1st floor, Badi Chowdi, nr P. S. Sultan Bazaar,
HYDERABAD; 500095, A. P. (INDIA)
Hand Phone +91 94415 11238 / +91 93463 93809

कोई टिप्पणी नहीं: