शुक्रवार, 30 अगस्त 2013

alha: kumar gaurav aleetendi


अभिनव प्रयोग;
वीर छंद/आल्हा छंद
कुमार गौरव अजीतेंदु
*

​​
आज न जाने दूँगी सैंया, मैं तो तुझको पिये शराब।
बता रही हूँ सीधे-सीधे, माथा न कर मेरा खराब॥
लील रही है हमें गरीबी, फिरता है तू बना नवाब।
बहुत सहा है रोते-रोते, हिम्मत ने अब दिया जवाब॥
देख बिलखते-भूखे बच्चे, माँग रहे दो रोटी-दाल।
​​
​​
​​
अरे दरिंदे! पापी थोड़ी, दया कलेजे में तो डाल॥
फटे वसन में लिपटी तेरी, बीवी मैं कर रही सवाल।
काहे को ब्याहा था मुझको, जब करना था ऐसा हाल॥
बनी उधारी फाँस गले की, कर्जों का बन गया पहाड़।
रोज मिले है गाँव-ज्वार से, गाली, झिड़की और लताड़॥
देनदार तो काफी सारे, लेकिन माँगें बोटी-हाड़।
बोल बेहया करवा दूँ क्या, उनके मन का सभी जुगाड़॥
अपने ही घर को सुलगा के, चखने में बच्चों को भून।
दारू थोड़े पीता है तू, पीता तो तू मेरा खून॥
आज मुझे उन्माद चढ़ा है, आज चढ़ा है बड़ा जुनून।
सब ले संगे जल जाऊँगी, फिर क्या कर लेगा कानून॥
जरा समझ तो जिम्मेदारी, अपने कर्मों को पहचान।
नशा बुरा है सबसे ज्यादा, कर जाता सबकुछ वीरान॥
हम भी चाहें जीना थोड़ा, हैं आखिर हम भी इंसान।

16 टिप्‍पणियां:

kumar gaurav ajitendu ने कहा…

pranam aachary
aalha chhand par ek prayas kiya hai
abhi dikhaun aapko

sanjiv ने कहा…

swagat hai

sanjiv ने कहा…

chhand vidhan ka palan kiya hai apne. badhaae. ship ke sath ab kathya aur bhasha ko aur nikharen. anavashyak shabd hatayen, shabd ke amanak roop ka prayog n ho to behtar.

kumar gaurav ajitendu ने कहा…

jaise
thoda udaharan sahit bata dein to aasani hogi

sanjiv ने कहा…

अरे दरिंदे! पापी थोड़ी, दया कलेजे में तो डाल॥
yahan' to' nirarthak hai

kumar gaurav ajitendu ने कहा…

ji
fir kya rakhun

sanjiv ने कहा…

daalna kriya ka arth udelalana hota hai. dalna arthat baahar se lakar bharna, daya bahar se naheen layee jatee, vah to man ke andar paida hotee hai. sochen yah theek hai ya naheen?

kumar gaurav ajitendu ने कहा…

haan, ye baat to hai
fir sahi pankti kya ho sakti hai

sanjiv ने कहा…

'काहे को' manak shabd roop naheen hai. shabd kosh men' kyon' hai. lokbhsha kavya men kaahe ko theek hai kintu aadhuni hindi ya khadi bloli men dosh kaha jayega.

kumar gaurav ajitendu ने कहा…

ji

sanjiv ने कहा…

'गाँव-ज्वार से' jwaar ek anaj hota hai. ahindi hbashee ish shabd ka yahe earth lenge jisse anarth ho jayega. yadi is deshaj shabd ka prayog karn ahai to iskaa arth paad tippanee men dena chahie.

kumar gaurav ajitendu ने कहा…

ji

sanjiv ने कहा…

पीता तो तू मेरा खून ya too to peeta mera khoon ?

kumar gaurav ajitendu ने कहा…

haan

sanjiv ने कहा…

rachna poorn hone par har pankti aur har shabd ko alochak kee drishti se dekhen, jahan jaroori lage badlen. jitana tarashenge akthya utna hee adhik spasht aur msashakt hoga. tab apki rachnayen pattiyon ken fool kee tarah alag dikhengee.

kumar gaurav ajitendu ने कहा…

ji aachary