स्तम्भ menu

Drop Down MenusCSS Drop Down MenuPure CSS Dropdown Menu

मंगलवार, 13 अगस्त 2013

kavi aur kavita: kusum vir

कवि और कविता :  कुसुम वीर

निश्छल मन की अभिव्यक्तियाँ हैं श्रीमती कुसुम वीर की कविताएँ



परिचय:
श्रीमती कुसुम वीर जी वर्तमान में ‘‘आसरा’’ – गरीब, असाक्षर एवं पिछली महिलाओं के उत्थान में अग्रसर चेरिटेबल संस्था की निदेशक हैं।
पूर्व में ये प्रौढ़ शिक्षा निदेशालय, स्कूल शिक्षा एवं साक्षरता विभाग, मानव संसाधन विकास मंत्रालय, भारत सरकार, के निदेशक के रुप में कार्यरत थीं। जहां से ये जनवरी 2011 में सेवानिवृत्त हुईं। इसके पूर्व केंद्रीय हिंदी प्रशिक्षण संस्थान, राजभाषा विभाग, गृह मंत्रालय, भारत सरकार में 5 वर्षों तक निदेशक के रुप में कार्यरत थीं। इसके अलावा केद्रीय अनुवाद ब्यूरो, राजभाषा विभाग, गृह मंत्रालय, भारत सरकार में निदेशक का अतिरिक्त प्रभार संभाल चुकीं हैं। श्रीमती कुसुम वीर जी का अध्यापन में भी व्यापक अनुभव रहा है। ये वर्ष 1989 में आई.टी. कॉलेज, लखनऊ (उ.प्र.) में मनोविज्ञान विभाग में प्रवक्ता रही तथा दिल्ली विश्वविद्यालय के हिंदी विभाग में स्नातक/स्नातकोत्तर छात्रों को ‘‘अनुवाद’’ विषय पढ़ाया हैं। इसके अलावा इन्होंने विभिन्न देशों में आयोजित अंतरराष्ट्रीय संगोष्ठियों/कार्यशालाओं में भारत सरकार के प्रतिनिधि के रूप में समय-समय पर सहभागिता की।
इन्होंने स्नातक की शिक्षा आगरा विश्वविद्यालय से वर्ष 1970 में हिंदी में प्रथम स्थान एवं स्वर्ण पदक के साथ प्राप्त की तथा स्नातकोत्तर – ‘मनोविज्ञान’ में प्रथम श्रेणी एवं आगरा विश्वविद्यालय में तृतीय स्थान के साथ हासिल की। शिक्षा की प्रति इनकी प्रतिबद्धता की वजह से इन्होंने इंटरनेशनल कॉलेज, डेनमार्क से वर्ष 1986 में ‘‘प्रौढ़ों की शिक्षा एवं उनका सामाजिक – आर्थिक विकास’’ विषय पर कोर्स किया। इन्होंने वर्ष 2006-07 में केंद्रीय हिंदी संस्थान, मानव संसाधन विकास मंत्रालय से संचालित ‘‘भाषा विज्ञान’’ का स्नातकोत्तर डिप्लोमा कोर्स प्रथम श्रेणी में उत्तीर्ण किया।
अध्ययन के प्रति इनकी चेष्टा का अनुमान इसी बात से लगाया जा सकता है कि ये कक्षा 1 से एम.ए. तक सदैव प्रत्येक स्तर पर ‘प्रथम स्थान’ पर रहीं। ये वर्ष 1968 से 1972 तक राष्ट्रीय स्कालर भी रहीं। इन्हें  अनेक वर्षों तक ‘‘सर्वोत्तम छात्रा’’ के पुरस्कार से सम्मानित किया गया। इन्हे वर्ष 1984 में ‘‘भारत की सर्वोत्तम युवा’’ के पुरस्कार से सम्मानित किया गया था। इनके अथक प्रयासों एवं भाषा के प्रचि निष्ठा का सम्मान करने के लिए वर्ष 2008 में ‘‘विक्रमादित्य विद्यापीठ’’, भागलपुर, बिहार द्वारा ‘‘विद्यासागर’’ (डी.लिट) की मानद उपाधि से इन्हे विभूषित किया गया।
ये शिक्षा का अनमोल खजाना लेकर अपेक्षाकृत कम विकसित शहरों में गयीं। उत्तर प्रदेश सरकार में जिला प्रौढ़ शिक्षा अधिकारी के पद पर 10 वर्षों तक (वर्ष 1980-90) कार्य करते हुए विभिन्न जिलों यथा – आगरा, मथुरा, गाजियाबाद एवं बुलंदशहर में साक्षरता कार्यक्रम का सफल संचालन किया एवं गाँव-गाँव घूमकर बहुत से गाँवों को पूर्ण साक्षर किया। भारत के विकास में महिलाओं की भागीदारी को सुनिश्चित करने के लिए इन्होंने ‘‘आसरा’’ चैरिटेबल ट्रस्ट की निदेशक के रूप में जून 2011 से गरीब, असाक्षर एवं पिछड़ी अनुसूचित जाति/जनजाति की महिलाओं के उन्नयन हेतु उन्हें सिलाई-कढ़ाई, फल संरक्षण, ब्यूटी पार्लर एवं पढ़ाई-लिखाई का अनवरत प्रशिक्षण, हुनर एवं रोजगार प्राप्त कराया।
इतने व्यस्त कार्यकाल में भी साहित्य के प्रति अनुराग और समर्पण का प्रमाण इनके द्वारा लिखी गयी कई महत्वपूर्ण पुस्तकें हैं। जिसमें प्रमुख है 30 दिन में हिंदी सीखें – द्वारा – डायमंड पॉकेट बुक्स, a few steps in learning Hindi – द्वारा – डायमंड पॉकेट बुक्स, ‘राजभाषा व्यवहार ’ – द्वारा – डायमंड पॉकेट बुक्स, ‘‘मैं आवाज़ हूँ’’ (कविता संग्रह) – द्वारा – प्रतिभा प्रतिष्ठान तथा ‘प्रशिक्षण ‘मैनुअल्स’ का निर्माण।
देशभर में ये महिलाओं के उद्धार हेतु कई कार्यक्रमों से जुड़ी रहीं हैं। महिलाओं के उन्नयन और उनमें साक्षरता को बढ़ावा देने के लिए राज्य स्तरीय/जिला स्तरीय सफल अभिनव प्रयोग एवं समन्वय कार्य किए। देशभर में ‘‘लेखक कार्यशालाओ’’ का आयोजन कर विभिन्न भाषाओं में ‘‘साक्षरता प्रवेशिकाओं’’ का निर्माण कराया। इनकी लेखन प्रतिभा का अंदाजा इसी बात से लगाया जा सकता है कि वागर्थ, ज्ञानोदय, गगनान्चल, स्वागत, शब्द-योग, राजभाषा भारती, साक्षरता मिशन, प्रौढ़ शिक्षा पत्रिका एवं सजग समाचार आदि अन्य कई पत्रिकाओं में लेखों एवं कविताओं का प्रकाशन हो चुका है। इसके अलावा आकाशावाणी एवं दूरदर्शन पर भी वार्ताओं एवं परिचर्चाओं का प्रसारण हो चुका है। इनसे kusumvir@gmail.com ई-मेल पर सम्पर्क किया जा सकता है। इनसे मोबाईल नम्बर 9899571158 पर भी सम्पर्क किया जा सकता है।
प्रस्तुत है श्रीमती कुसुम वीर जी की पुस्तक “ मैं आवाज़ हूँ – काव्य संग्रह” की दिनेश मिश्र द्वारा लिखी गई भूमिका।
कविताएँ जो बहुत-कुछ कहती हैं
कुसुम वीर की कविताएँ बहुत-कुछ कहती हैं। जीवन से जुड़े अनेक संघर्ष और अनुभव उनकी कविताओं में झलकते हैं। सर्वाधिक महत्वपूर्ण चुनौती तो अभिव्यक्ति की है जिसे उन्होंने अपनी कविता ‘मैं आवाज़ हूँ’ के माध्यम से सुदृढ़ आत्मविश्वास के साथ व्यक्त किया है। कवयित्री को मालूम है कि हमारे परिवेश में, हमारे समाज में, स्वतंत्र और स्वाभिमानी विचार का आसानी से स्वागत नहीं होता। उस आवाज़ को दबाने या बाँधने की भरपूर कोशिश होती है। लेकिन, कवयित्री समाज की उन शक्तियों के सामने झुकने को तैयार नहीं। दमन और न्याय के खि़लाफ़ उसकी आवाज़ बुलंद है और रहेगी ताकि, बाधाओं और अंधविश्वासों की दीवारें गिराई जा सकें। कवयित्री का साहस अदम्य है और आत्मविश्वास अपराजेय। तभी तो,
मैं आरक्षित हूँ
एक बुलंद आवाज़
एक अपरिमित आकाश
जिसे न गिरा सका है कोई
न दबा सकेगा कोई।
कुसुम वीर की कविताओं में जहाँ एक ओर मानवीय संबंधों की उलझनें सामने आती हैं, वहीं दूसरी ओर रिश्तों की सच्चाई कुछ इस तरह नज़र आती है,
रंग-रँगीले लोग
गिरगिट-से रंग बदलते
स्वार्थरत
निजोन्मुख
अंतर की माँद में
दुबले-से रिश्ते
और फिर रिश्ते भी ‘किसिम-किसिम’ के,
रिश्ते
कुछ खट्टे
कुछ मीठे
कुछ तीखे
कुछ फीके
कुछ मन से जुड़े
कुछ तन से जुड़े
संपर्कों की आड़ में
कुछ बरबस जुड़े।
परंतु कवयित्री आशावादी है – सकारात्मक दृष्टि-संपन्न। तभी तो कहा है,
रिश्ता कोई भी
इतना फीका नहीं
कि सौहार्द का रंग न चढ़े
इतना खट्टा नहीं
जिस पर प्रेम की मिठास न मढ़े
इतना तीखा नहीं
कि नम्रता का असर न पड़े।
कुसुम वीर की कविताएँ जीवन की ऊहापोह से गुजरते हुए एक निश्छल मन की अभिव्यक्तियाँ हैं। इन कविताओं में भावनाएँ, संवेदनाएँ, विचार,रुचियां – उनका समूचा व्यक्तित्व परिलक्षित होता है। क्या मन को भला लगता है और क्या नहीं, बड़ी बेबाकी से बताया है:
मुझे अच्छा लगता है
लोगों के बीच रहना
मिलना-जुलना
लेकिन अखर जाता है
लोगों की भीड़ में
अपने को अकेला पाना।
जैसे मनुष्य के व्यक्तित्व के अनेक पहलू होते हैं, कुसुम वीर की कविताओं के भी कई रंग हैं। एक ओर सामाजिक-सांस्कृतिक परिवेश की जकड़न का गहरा अहसास है, वहीं मन की कोमलतम संवेदनाओं को भी ये कविताएँ उजागर करती हैं,
मन
गीली मिट्टी सा
उपजते हैं इसमें
अनेक विचार
अभिलाषाएँ
आकांक्षाएँ
या फिर,
मुझ्ो प्यार चाहिए
ढेर सारा प्यार
लाड़ और दुलार।
कुसुम वीर की कविताओं का एक अहम विषय है सामाजिक एवं राजनीतिक परिवेश की विसंगतियाँ। भारत की गौरवमयी सांस्कृतिक विरासत के बावजूद वर्तमान समाज में बहुत-सी बातें असहनीय हैं। उनके विरोध में कवयित्री के मन का आक्रोश कई कविताओं में मुखर हुआ है। जैसे,
कैसी आज़ादी यहाँ
कोई किसी की
सुनती नहीं।
कोई किसी को
कुछ कहता नहीं।
और भी बहुत-कुछ कहा जा सकता है कुसुम वीर की कविताओं के बारे में, उनकी संभावनाओं के बारे में। परंतु बेहतर यह है कि पाठक सीधे कविताओं से ही सुनें कि वे क्या कहती हैं?
विश्वास है कि पाठकों को ये कविताएँ अपने मन के आस-पास की कविताएँ लगेंगी और वे इनमें एक भावनापूर्ण निश्छल स्वर सुन सकेंगे।
‘मैं आवाज़ हूँ’ कुसुम वीर की कविताओं का पहला संग्रह है और आशा है कि यह समर्थ आवाज़ दूर तक हमारे साथ चलेगी। – दिनेश मिश्र
प्रस्तुत है श्रीमती कुसुम वीर जी की कुछ महत्वपूर्ण कवितायें –
मैं आवाज़ हूँ
मैं
एक आवाज़ हूँ
जीती-जागती
झंझावतों को चीरती
ज़ुल्मों को बींधती
म्यान से निकल
अत्याचारों को रौंदती
तुम सोचते हो
दबा सकोगे तुम
मेरी आवाज़ को
मेरी ताकत को
मेरी शख़्सियत को
मेरे वजूद को
आज तक
कौन बाँध सका है
मुझे, अपने पाश में
न मानव
न दानव
न सूरज
न तारे
गवाह हैं
ये सभी
मेरी सत्ता के
मेरे अस्तित्व के
मेरी आवाज़ के
मेरी आवाज़
युगों से पुकार रही है
मुझे जीने दो
खुली हवा में
साँस लेने दो
तोड़ डालो
उन बाधाओं को
अंधविश्वासों की दीवारों को
जो चारदीवारी से
तुम्हें बाहर नहीं आने देतीं
गिरा दो
उन शिलाखंडों को
जिनके पाषाण संकेतों ने
दबा रखा है स्वप्नों को
लौटा दो
उन गरजते तूफानों को
जो अपनी गरज से
दबा देना चाहते हैं
उभरती आवाज़ को
उड़ने दो इस आवाज़ को
भावनाओं के उन्मुक्त गगन में
जहाँ विस्तृत आकाश
बाँहें फैला खड़ा है
यह आवाज़ आत्मसात कर
उसे दोहराने को।
मैं अक्षरित हूँ
एक बुलंद आवाज़
एक अपरिमित आकाश
जिसे न गिरा सका है कोई
न दबा सकेगा कोई।
***
मैं खुश हूँ
मैं
बहुत खुश हूँ
मेरे आँगन में
एक अंकुर फूटा है
परसों, मैंने
एक नन्हें बीज को
अपनी हथेलियों से सहलाकर
बोया था
माटी के बीच में
आज
एक अंकुर फूटा है उसमें
मृदुल, कोमल
इक नन्हे शिशु सा
कोमल हरित गात
मैंने
उसे सहलाया
जल बिंदुओं से
और
आहिस्ता-आहिस्ता
वह बढ़ने लगा
थोड़ा ऊँचा
उठने लगा
और अब
कुछ-कुछ मुझे
पहचानने भी लगा है
मेरे पास आते ही
वह मचलने लगता है
मेरी उँगलियों का
स्पर्श पाने को
अपनी कोमल सी कोंपल बाँहों से
छूना चाहता है मुझे
मैं
रोज़ उसे देखती हूँ
दुलारती हूँ
सींचती हूँ।
अब
वह जवान हो चला है
मैं आज बहुत खुश हूँ
उसने जन्म दिया है
शाखों को,
जिनको
मौसम की बहारें
अपने पालने में
दुलार रही हैं
धीरे-धीरे
फिर बढ़ने लगी हैं
शाखें
और
बौर उमड़ आया है
उन पर
यौवन का
फैला दी हैं उसने अपनी बाँहें
किसी आलिंगन को
झुकने लगा है वह
अपने फलों से
धरा को
पूरित करने को
मैं
बहुत खुश हूँ
क्योंकि
मैंने आज
एक जीवन को
भरपूर जीते देखा है।
***
चस्का
यहाँ, कोई किसी से
नहीं बोलता
किसी की नहीं सुनता
सब अपने में मगन
आगे बढ़ने की होड़
एक चस्का
ढेर सारे पैसे
पाने का
और
सिक्कों की खनखनाहट में
बेसुध हो जाने का।
यहाँ पर
कोई किसी को नहीं रोकता
नहीं टोकता
क्योंकि
इस आपाधापी में
सबको
अपनी पड़ी है।
उसे चाहिए ज्चयादा
और ज्चयादा, सबसे ज्चयादा
किसी को कम मिले
या ना मिले
उसे क्या
उसे तो पाना है सर्वस्व
कभी न खत्म होनेवाली मरीचिका
और अपार अधिकार!
***
मैंने भारत को देखा है
मैंने
भारत को देखा है
उसके मान को
सम्मान को
गौरव को
मर्यादा को।
मैंने
भारत को जाना है
उसकी आत्मा को
पौरुष को
शौर्य को
बलिदान को।
मैंने
भारत को सुना है
उसके तरकस से छूटे
प्रत्यंचा पर चढ़े
तीरों की गर्जना को।
मैंने
भारत को सूँघा है
उसकी हवा में बहती
यज्ञ-सुवासित
समिधा की खुशबू को।
मैंने
भारत को पहचाना है
तक्षशिला नालंदा में गूँजते
वेदों की ऋचाओं के
मुखरित स्वरों को।
***
बुलबुले
बुलबुले
छोटे-बड़े बुलबुले
तरह-तरह के बुलबुले
बुलबुले
जो बहुत-कुछ कहते हैं
अपनी ज़बानी
जीवन की कहानी
बुलबुले
भावों के बुलबुले
उभरते-ठिठकते
अंतर के सागर में
फूटते-सिमटते
बुलबुले
सपनों के बुलबुले
तैरते-मचलते
उमंगों के बुलबुले
मुसकाते-चहकते
बुलबुले
आशा-निराशा के बुलबुले
जलते औ’ बुझ्ाते
आकांक्षाओं के बुलबुले
टिमटिमाते-चमकते
बुलबुले
प्रीत के बुलबुले
गहाराते-उथले
रिश्तों के बुलबुले
बनते-बिगड़ते
बुलबुले
खुशियों के बुलबुले
हँसते-मचलते
गम के बुलबुले
अकेले-वीराने
बुलबुले
तृष्णा के बुलबुले
ललचाते-बहकते
करुणा के बुलबुले
दुलारते-सहलाते
बुलबुले
वीरता के बुलबुले
दहाड़ते-गरजते
भय के बुलबुले
सहमते-दुबकते
बुलबुले
साँसों के बुलबुले
आते-गुज़रते
जीवन के बुलबुले
उगते औ’ ढलते
बुलबुले
मृत्यु के बुलबुले
मिटते-सिमटते
सत्य के बुलबुले
शाश्वत ही रहते
अनूठी कहानी है
ये बुलबुलों की
मिटकर भी फिर से
उपजते हैं बुलबुले
***
ये भी हैं बच्चे
बच्चे
कूड़े के ढेर में
इधर-उधर
ताकते-झाँकते
नन्हीं-नन्हीं उँगलियों से
चिंदी-चिंदी कागज़ बीनते
प्लास्टिक की बोतलें बटोरते
दिशाहीन बच्चे
पुराने घिसे कपड़ों को
अपने मैले हाथों से पोंछते
दूर कहीं सलीके से
यूनीफार्म पहने
स्कूल जाते दूसरे बालकों को
हसरत से निहारते
कुछ करने की चाह में
ऊपर- नीचे बेमकसद
कूदते-फाँदते बच्चे
चौराहे की लाल बत्ती पर
गाड़ियों के आगे-पीछे
डोलते- मंडराते
माँओं की गोद में चिपके
लाडले बच्चों को
गुब्बारा बेचते
अभावग्रस्त बच्चे
आरामदार गाड़ियों में बैंठे
साहब मेमसाहब से
माँगते- गिड़गिड़ाते
टाई बाबू की फटकार से
सहमते- डरते
किसी नुक्कड़ पर
हलवाई की दुकान को
ललचाई नज़रों से ताकते
भूखे बच्चे
भारत निर्माण के
ख्वाबों से अनजान
अक्षरों से महरुम
चौराहों पर
कलम किताब बेचते बच्चे
पास से गुज़रती
किसी गाड़ी की तेज़ रफ्तार से
ठोकर खाते
गिरते- कराहते
थककर पगडंडी पर पैर पसारे
भावपूरित आँखों से
शून्य में ताकते बच्चे
बाल शोषण मुक्ति कानून
देश के विकास,
उसकी तरक्की से बेखबर
देश के नौनिहाल-कर्णधार
सड़क फुटपाथ पर
अधनंगे सोते बच्चे
***
सुर्खियों में
मुझे अच्छा लगता है
सुबह-सुबह
हरी घास पर टहलना,
और शबनमी बूँदों का
मेरे पाँओं को सहलाना
भाती है मुझे
ठंडी हवाओं के झोकों में,
पेड़ों की शाखों पर
पत्तों का,
रह-रहकर मचल जाना
लेकिन, गर्म चाय की
प्याली के साथ
अख़बार की सुर्खियों में
जब पढ़ती हूँ,
बलात्कार, डकैती
अपहरण और मारकाट,
तब सिहर उठता है मन
काँप जाती है रूह
कि आज
फिर किसी
वृद्धा को पाकर अकेले
किसी कसाई ने,
उसका हलक दबाया होगा !
सुबह की सुहानी,
शीतल सुवासित मलय
अब गर्म हो चुकी है
अख़बार के सुर्ख स्याह
पन्नों की धूप से,
रेशमी घास के
शबनमी मोती भी
अब सुख चुके है,
और रीत चुके है
भावों के अप्लव
दूर कहीं
कोमल, निश्छल शाखें
ताक रही है
पेड़ो को,
और, पूछ रही है,
कब ये आदमी
इन्सान बनेगा?
क्या इसीलिए, ईश्वर ने
इन्सान को
धरती पर भेजा था,
कि वह,
ज़र, जोरू और ज़मी के लिए
कत्ले आम करे
और बहाए खून
माँओं, बहनों और बच्चों का
जिनका दोष सिर्फ यह है,
कि वे निर्दोष हैं !
***
आभार : प्रवासी दुनिया

2 टिप्‍पणियां:

Kusum Vir ने कहा…

sn Sharma via yahoogroups.com

आदरणीया कुसुमवीर जी
आज आपका परिचय पढ़ कर मन गदगद हुआ । आपकी रचनाओं से साक्षात्कार
होने पर अहसास हुआ की अनायास एक अदभुत पतिभा से इस मंच पर परिचित हुआ ।
आशा है आपका आशीर्वाद मिलता रहेगा और आपसे बहुत कुछ सीख सकूंगा ।
आ० आचार्य संजीवजी और शुक्ल जी का भी आभारी हूँ की उन्होंने आपके व्यक्तित्व
को समझने का अवसर दिया ।
आप को मेरी सतत शुभ कामनाएं

सादर
कमल

Shriprakash Shukla ने कहा…



आदरणीया कुसुम वीर जी,

आज के युग में सब कुछ सबको पता है। आपकी सामाजिक सरोकार रखती हुयी रचनाओं को पढ़कर मैं तो चकित रह गया और सभी सदस्यों से साझा करने से अपने को रोक न सका। आप निश्चिंतता से अपनी रचनायें भेजती रहें और हम लाभान्वित होते रहें इसी कामना के साथ';-
सादर
श्र्प्रकाश शुक्ल