शुक्रवार, 3 अगस्त 2018

doha salila

दोहा सलिला 
*
लिखा बिन लिखे आज कुछ, पढ़ा बिन पढ़े आज 
केर-बेर के संग से, सधे न साधे काज
*
अर्थ न रहे अनर्थ में, अर्थ बिना सब व्यर्थ 
समझ न पाया किस तरह, समझा सकता अर्थ
*
सजे अधर पर जब हँसी, धन्य हो गयी आप 
पैमाना कोई नहीं, जो खुशियाँ ले नाप
*
सही करो तो गलत क्यों, समझें-मानें लोग? 
गलत करो तो सही, कह; बढ़ा रहे हैं रोग

*
दिल के दिल में क्या छिपा, बेदिल से मत बोल 
संग न सँगदिल का करो, रह जाएगी झोल
*
प्राण गए तो देह के, अंग दीजिए दान
जो मरते जी सकेंगे, ऐसे कुछ इंसान

*
कंकर भी शंकर बने, कर विराट का संग 
रंग नहीं बदरंग हो, अगर करो सत्संग
*
कृष्णा-कृष्णा सब करें, कृष्ण हँस रहे देख
मैं जन्मा क्यों द्रुपदसुता,का होता उल्लेख?

*
मटक-मटक जो फिर रहे, अटक रहे हर ठौर 
फटक न;  सटके सफलता, अटके; करिए गौर।  
*
३.८.२०१८, ७९९९५५९६१८ 
salil.sanjiv@gmail.com  

कोई टिप्पणी नहीं: