सोमवार, 13 अगस्त 2018

doha

दोहा
निधि जीवन की मित्रता, करे सुखी-संपन्न
मित्र न जिसको मिल सके, उस सा कौन विपन्न.

कोई टिप्पणी नहीं: