सोमवार, 20 अगस्त 2018

abhar

आभार
आपसे शुभ कामना पा, हुआ यह दिन ख़ास
साँस में अमृत घुला ज्यों, सुमन में सुवास
ईश्वर दे पात्रता, बढ़ता रहे नित स्नेह
ज्यों की त्यों चादर रहे, जब जाऊँ अपने गेह
ह्रदय से आभार प्रिय! अनमोल है यह प्यार
जिंदगी के द्वार पर है यही बन्दनवार 

  

2 टिप्‍पणियां:

Kavita Rawat ने कहा…

बहुत सुन्दर प्रस्तुति
आपको जन्मदिन की बहुत-बहुत हार्दिक शुभकामनाएं

sanjiv verma ने कहा…

कविता जी धन्यवाद.