बुधवार, 22 अगस्त 2018

भाषा विविधा दोहा

संस्कृत दोहा: शास्त्री नित्य गोपाल कटारे
वृक्ष-कर्तनं करिष्यति, भूत्वांधस्तु भवान्। / पदे स्वकीये कुठारं, रक्षकस्तु भगवान् 
मैथली दोहा: ब्रम्हदेव शास्त्री
की हो रहल समाज में?, की करैत समुदाय? / किछु न करैत समाज अछि, अपनहिं सैं भरिपाय।।
अवधी दोहा: डॉ. गणेशदत्त सारस्वत
राम रंग महँ जो रँगे, तिन्हहिं न औरु सुहात / दुनिया महँ तिनकी रहनि, जिमी पुरइन के पात।। 
बृज दोहा: महाकवि बिहारी 
जु ज्यों उझकी झंपति वदन, झुकति विहँसि सतरात। / तुल्यो गुलाल झुठी-मुठी, झझकावत पिय जात।।
कवि वृंद: 
भले-बुरे सब एक सौं, जौ लौं बोलत नांहिं। / जान पडत है काग-पिक, ऋतु वसंत के मांहि।।
बुंदेली दोहा: रामेश्वर प्रसाद गुप्ता 'इंदु'
कीसें कै डारें विथा, को है अपनी मीत? इतै सबइ हैं स्वारथी, स्वारथ करतइ प्रीत।।
पं. रामसेवक पाठक 'हरिकिंकर': नौनी बुंदेली लगत, सुनकें मौं मिठियात। बोलत में गुर सी लगत, फर-फर बोलत जात 
बघेली दोहा: गंगा कुमार 'विकल' 
मूडे माँ कलशा धरे, चुअत प्यार की बूँद / अँगिया इमरत झर रओ, लीनिस दीदा मूँद
पंजाबी दोहा: निर्मल जी 
हर टीटली नूं सदा तो, उस रुत दी पहचाण। / जिस रुत महकां बाग़ विच, आके रंग बिछाण
-डॉ. हरनेक सिंह 'कोमल'  
हलां बरगा ना रिहा, लोकां दा किरदारमतलब दी है दोस्ती, मतलब दे ने यार
गुरुमुखी: गुरु नानक   
पहले मरण कुबूल कर, जीवन दी छंड आस। /  हो सबनां दी रेनकां, आओ हमरे पास
भोजपुरी दोहा: संजीव 'सलिल'-
चिउड़ा-लिट्ठी ना रुचे, बिरयानी की चाह/ नवहा मलिकाइन चली, घर फूँके की राह
मालवी दोहा:  संजीव 'सलिल'-  
भणि ले म्हारा देस की, सबसे राम-रहीम /जल ढारे पीपल तले, अँगना चावे नीम 
निमाड़ी दोहा:  संजीव 'सलिल'-  
रयणो खाणों नाचणो, हँसणो वार-तिवार / गीत निमाड़ी गावणो, चूड़ी री झंकार 
छत्तीसगढ़ी दोहा:  संजीव 'सलिल'- 
जाँघर तोड़त सेठ बर, चिथरा झूलत भेस  / मुटियारी माथा पटक, चेलिक रथे बिदेस 
राजस्थानी दोहा:   
पुरस बिचारा क्या करै, जो घर नार कुनार। /ओ सींवै दो आंगळा, वा फाडै गज च्यार।। 
अंगिका दोहा: सुधीर कुमार
ऐलै सावन हपसलो', लेनें नया सनेस । / आबो' जल्दी बालमां, छोड़ी के परदेश।।  
बज्जिका दोहा: सुधीर गंडोत्रा
चाहू जीवन में रही, अपने सदा अटूट। / भुलिओ के न परे दू, अपना घर में फूट
हरयाणवी दोहा: श्याम सखा 'श्याम' 
मनै बावली मनचली, कहवैं सारे लोग। / प्रेम-प्रीत का लग गया, जिब तै मन म्हं रोग।।
मगही दोहा : 
रउआ नामी-गिरामी, मिलल-जुलल घर फोर। / खम्हा-खुट्टा लै चली, 
राजस्थानी दोहा:
पुरस बिचारा क्या करै, जो घर नार कुनार। / ओ सींवै दो आंगळा, वा फाडै गज च्यार।। 
कन्नौजी दोहा:
ननदी भैया तुम्हारे, सइ उफनाने ताल। / बिन साजन छाजन छवइ, आगे कउन हवाल।।  
सिंधी दोहा: चंद्रसिंह बिरकाली  
ग्रीखम-रुत दाझी धरा कळप रही दिन रात। / मेह मिलावण बादळी बरस बरस बरसात ।। 
दग्ध धरा ऋतु ग्रीष्म से, कल्प रही रही दिन-रात।  / मिलन मेह से करा दे, बरस-बरस बरसात।।  
गढ़वाली दोहा: कृष्ण कुमार ममगांई
धार अड़ाली धार माँ, गादम जैली त गाड़। / जख जैली तस्ख भुगत ली, किट ईजा तू बाठ।।
सराइकी दोहा: संजीव 'सलिल' 
शर्त मुहाणां जीत ग्या, नदी-किनारा हार। / लेणें कू धिक्कार हे, देणे कूँ जैकार।। 
मराठी दोहा: वा. न. सरदेसाई 
माती धरते तापता, पर्जन्यची आस।  / फुकट न तृष्णा भागवी, देई गंध जगास।।
गुजराती दोहा: श्रीमद योगिंदु देव 
अप्पा अप्पई जो मुणइ जो परभाउ चएइ। / सो पावइ सिवपुरि-गमणु जिणवरु एम भणेइ।।

कोई टिप्पणी नहीं: