रविवार, 19 अगस्त 2018

एक दोहा

अंबर! प्रियदर्शी रहो, मत तोड़ो मर्याद।
तपा-डुबा क्यों मारते?, हम होते बर्बाद।।

कोई टिप्पणी नहीं: