बुधवार, 15 अगस्त 2018

navgeet avinash beohar

नवगीत 
अविनाश ब्यौहार 
*
पंख दिये हैं
कुदरत ने पर
कैसे भरूं उड़ान!
*
अब खतरे में
परवाजें हैं!
गूंगी गूंगी
आवाजें हैं!!
इतने पर भी
आसमान सोया
है चादर तान!
*
चुप्पी ढोते
हुये ठहाके!
खेत कर रहे
हैं अब फांके!!
कष्टों का है
खड़ा हिमालय
चढ़ जा रे इंसान!
*
रायल एस्टेट कटंगी रोड
जबलपुर-9826795372

कोई टिप्पणी नहीं: