बुधवार, 4 जुलाई 2018

वर्षा गीत

गीत:
चुभती बूँदें
अविनाश ब्योहार
*
बुरे हुए दिन
चुभती बूँदें
शूल सी!

दामिनी सा
दुःख तड़का
जेहन में!
ख्वाबों की
जागीर है
रेहन में!!

अल्पवृष्टि लगती
मौसम की
भूल सी!

कैसा मौसम
आया कि
मेह न बरसे!
नदी, ताल, विटप
सहमें हैं
डर से!!

खेतिहर की
सूरत है
मुरझाये फूल सी!
*
रायल एस्टेट, कटंगी मार्ग 
माढ़ोताल, जबलपुर, ९८२६७९५३७२ 

कोई टिप्पणी नहीं: