शुक्रवार, 23 मार्च 2018

doha shatak rameshvar prasad sarasvat

ॐ 
दोहा शतक 
रामेश्वर प्रसाद सारस्वत 

















जन्म:   १-४-१९५४ सोंखखेड़ा, मथुरा उ॰प्र॰  
आत्मज: श्रीमती शांति देवी-श्री नत्थीलाल सारस्वत ।
जीवन संगिनी: श्रीमती वीणा सारस्वत । 
शिक्षा: बी॰एससी॰, बी॰वी॰एससी॰ एण्ड सी॰ए॰आई॰आई॰बी॰।
लेखन विधा: गीत, कविता, निबंध।
प्रकाशन:  नानी का गाँव बाल,  चटोरी चिड़िया,  काठ का घोड़ा,  छुटकी की चुटकी सभी बाल कविता-संग्रह ।  
उपलब्धि:  'विशिष्ट सम्मान' भारतीय बाल कल्याण संस्थान कानपुर, समन्वय सृजन सम्मान- २०१० सहारनपुर, 
 बाल-वाटिका, भीलवाड़ा द्वारा कविता-संग्रह काठ का घोड़ा सम्मानित २०१४,  बाल साहित्यकार सम्मान २०१५ 
धरोहर स्मृति न्यास, बिजनौर, राष्ट्रीय जनकल्याण समिति भारत द्वारा विशिष्ट नागरिक सम्मान,
साहित्य वारिधी २००९-१०, दोहा शिरोमणि शारदामंच खटीमा, कल्याण सिंह बिष्ट स्मृति बाल साहित्य सम्मान २०१७, 
साहित्य सागर सम्मान २०१७।
संप्रति: परियोजना निदेषक, पंजाब नेशनल बैंक, शताब्दी ग्राम विकास न्यास, माटकी-झरौली, सहारनपुर उ॰प्र॰। 
संपर्क: १००-पंत विहार, सहारनपुर उ॰प्र॰। 
चलभाष: ९५५७८२८९५० , ईमेल:   rpsaraswat1454@gmail.com  ।
*

जहरीली नदियाँ हुईं, सिकुड़े जीवन सूत्र।
अमृतधारा थीं कभी, अब ढोतीं मल-मूत्र।।
*
लोभ-लालसा की कहाँ, सीमा है निर्दिष्ट।
जितना पाएँ कम पड़े, रहें अतृप्त अशिष्ट।।
*
सुजला सुफला श्यामला, शस्यों से भरपूर।
मानव दोहन में लगा, होकर मद में चूर।।
*
रौंद दिए जंगल सभी, नदियाँ लील-निचोड़।
मरघट तक ले आ गई, यह विकास की होड़।।
*
अंधाधुंध कटान से, चीरा माँ का वक्ष।
रुक पाएगा अब भला, क्यों अकाल दुर्भिक्ष।।
*
मानव करने में लगा, जीवन से खिलवाड़।
शामिल अंधी दौड़ में, ले विकास की आड़।।
*
खनन संपदा की मची, ऐसी लूट-खसोट।
औने-पौने बेच दी, ले खादी की ओट।।
*
तपती धरती पूछती, रह-रह यही सवाल।  
कब बरसोगे देवता, करने जगत निहाल।।
*
सनन-सनन लू चल रही, लगें थपेड़े खूब।
झुलसे तरु कुम्हला रहे, जली धरा की दूब।।
*
तप्त हवा सी लग रही, फैली चहुँ दिश रेत।
नहीं दिखाई पड़ रहे, जीवन के संकेत।।
*
भीषण गर्मी पड़ रही, भूजल हुआ विलुप्त।
इंद्रदेव किस लोक में, करें मंत्रणा गुप्त।।   
*
धूल भरी आँधी उठी, आए बादल झूम।
बिन बरसे जाते कहाँ, धूम-धाम से घूम।।
*
यमुना साँसें गिन रही, सिसक रही है गंग।
नहरें छल कर ले गयीं, सलिला-सलिल तरंग।।
*
अंधी दौड़ विकास की, मर्यादाएँ ध्वस्त।
कंकरीट के देश में, सब अपने में मस्त।।
*
जेठ तपे जितना प्रबल, लू, पछुआ के संग।
उतना सावन बरसकर, बिखराता है रंग।।
*
जेठ दुपहरी तप रही, बढ़ती दिन-दिन प्यास।
तरु की छाया ढूँढता, पंछी हुआ उदास।।
*
पूरा पोखर पी गया, कितना प्यासा जेठ।
फिर भी नजर तरेरता, तिरछी मूँछें ऐंठ।।
*
घूँट-घूँट को तरसते, परबस डंगर-ढोर।
बरखा बैरन लापता, दीखे ओर न छोर।।
*
कैसी है यह त्रासदी, या विधिना का खेल।
पानी के दिन फिर गए, बिकता ज्यों घी-तेल।।
*
कहाँ गईं वे बावड़ी, ठंडे जल की स्रोत।
ग्रसे गए किस शाप से, कुएँ-ताल पा मौत।। 
*
प्याऊ-पोखर गुम हुए, सूखे मन से लोग।
घर-चौराहे हर तरफ, लगा बिसलरी रोग।।
*
अच्छे दिन की बाट में, बीता कैसे साल।
निर्मोही मौसम हुआ, करता रोज धमाल।।
*
धूल भरी आँधी उठी, धरा रूप विकराल।
छप्पर-छानी उड़ गए, घर के बिगड़े हाल।।
*
जेठ दुपहरी तप रही, हर बरगद की छाँव।
कहो कौन सुलगा गया, जले गाँव के गाँव।।
*
मन के घोड़े दौड़ते, सरपट बिना लगाम।
नहीं किसी को सूझता, क्या बरखा क्या घाम।।  
*
पावस नाचे झूम के, पुरवा गाए गीत।
हरियाली धरती हुई, पा अंबर की प्रीत।।
*
चकाचौंध है हर तरफ, है दूधिया प्रकाश।
मनुआ अंधी दौड़ में, सीने में ले प्यास।।
*
राजनीति में हो रहे, कैसे-कैसे खेल।
मुलजिम छुट्टा घूमता, बेकसूर को जेल।।
*
संविधान में ही बचा, लोकतंत्र है आज।
सुप्रीमो ही कर रहे, अब जनगण पर राज।।
*
ऐसा मैंने कब कहा, रोज पलटते बोल।
करनी-कथनी में सदा, नेता रखते झोल।।
*
धुली-धुली सी लग रही, चूने से लबरेज।
शायद मंत्री की लगे, इसी सड़क पर मेज।।  
*
सच को सच कहना नहीं, करो झूठ बदनाम।
अब विपक्ष का रह गया, संसद में यह काम।।
*
हावी लॉकर पर हुआ, गणित बिठाता तंत्र।
सैंया लोभी मिल रचें, रोज नये षड़यन्त्र।।।।
*
खत जब सूरज ने लिखा, पुरवाई के नाम।
सुबह हँसी गुलदाउदी, बहका बेला शाम।।
*
सुबह सुरमई हो रही, और दूधिया शाम।
चुप-चुप मौसम दे रहा, प्यार भरा पैगाम।।
*
नैना झुक-झुक कर करें, खट्टी-मीठी बात।
प्रीति निगोड़ी ले उड़े, बिन ब्याहे जजबात।।
*
ताजे फूलों सी हँसी, चंदा जैसा बिंब।   
स्मृति तल में तैरता, उसका ही प्रतिबिंब।।
*
छूट गए अब गाँव के, तपते सुखद अलाव।
किस्से और कहानियों, का  पूर्ण अभाव।।
*
हमने तो इस दौर से, किया अजब अनुबंध।
उड़कर भी साधे रखा, धरती से संबंध।।
*
बिजली ने जब रूठकर, दिखलाए निज रंग।
हम भी फिर मन मार के, रहे चाँदनी-संग।।
*
आँखमिचौली खेलकर, बिजली सारी रात।
निंदिया को देती रही, पल-पल हँस शह-मात।।
*
देखा परखा है बहुत, हमने यह हर बार।
मन कब कहने में रहा, रहे सदा मन मार।।
*
पल-पल बूढ़ी हो रही, है बरगद की छाँव।
कहीं आस अटकी हुई, लौटेगा वह गाँव।।
*
पल-पल वह सहती रही, यादों का उन्माद।
दिल पर पत्थर रख लिया, भूली सब संवाद।।
*
गुलमोहर खुश हो रहा, फूला हरसिंगार।
बरगद पीपल नीम से, बतिया रही बयार।।
*
बाहर चल स्वीकारिए, कुदरत के उपहार।   
नया सवेरा कह रहा, खोलें मन के द्वार।।
*
नीम खड़ा बौरा रहा, सजे जमुन के पात।
जेठ हठीला दे रहा, बेमन ये सौगात।।
*
सुबह सुरमई हो रही, लगे सुहानी शाम।
मुई दुपहरी कटखनी, सब आराम हराम।।
*
बूँदा-बाँदी हो रही, उठती सौंधी गंध।
आसमान से जुड़ रहे, धरती के संबंध।।
*
बच्चे ने पाई नहीं, माँ के पय की गंध।
बोलो फिर कैसे जुड़े, नेह पगे संबंध।।
*
पानी का संकट विकट, गहराया दुष्काल।
चल कर फिर से खोजिए, नदियाँ-पोखर-ताल।।
*
नदी सूख काँटा हुई, रेत-लोटती नाव।
पानी के हैं लग रहे, अब मनमाने भाव।।
*
राजनीति के ताल में, घुटनों-घुटनों कीच।
फेंकू, पप्पू नाम दो, या फिर कह लो नीच।।
*
साम, दाम अरु दण्ड से, जीतो आज चुनाव।
जिसको जो भाए चलो, वही शकुनिया दाँव।।
*
शुचिता की बातें हुईं, करना आज फिजूल।
अब तो मात्र विपक्ष को, चटवाना है धूल।।
*
छल-बल हर दल में भरा, धन-बल भी भरपूर।
राजनीति में स्वच्छता, अब तो कोसों दूर।।
*
तू मुझको नकटा कहे, मुझको तू है नीच।
हम दोनों ही पशु निरे, हमें सुहाती कीच।।
*
राजनीति के पंक में, खुशी-खुशी जा लोट।
अच्छा-बुरा न सोच कुछ, हथिया जन का वोट।।
*
किंचित भी देना नहीं, अब विपक्ष को एज।
फण्डा केवल एक ही, कर चुनाव मैनेज।।
*
सर्दी में भी हँस रहे, ये गुलाब के फूल।
जो सब को प्रतिकूल है, इनको है अनुकूल।।
*
सरसों शैशव काल में, होती ईख जवान।
गेहूँ तो हरिया रहे, बोरे में हैं धान।।
*
गेंदे की पसरी हुई, है मदमाती गंध।
गुपचुप उसका हो गया, सुरज से अनुबंध।।
*
जाड़ा आ सम्मुख खड़ा, ठोके अपनी ताल।
आग पकड़ने से डरे, अब कमजोर पुआल।।
*
एक साथ कैसे सधैं, जीवन के संकेत।
इधर नदी दम तोड़ती, उधर सूखते खेत।।
*
धीरे-धीरे हो रहा, है जड़ता का अंत।
अब सरसों के खेत मैं, कविता पढ़े बसंत।।
*
पद्मावत को देखकर, मनवा हुआ अधीर।
बिना शीश लड़ते रहे, कहाँ गए वे वी।।
*
एक निमष भूला नहीं, मुझको मेरा गाँव।
चल पड़ते उस ओर को, बरबस मन के पाँव।।
*
उसकी भोर सुहावनी, मस्त सुरमई शाम।
गाँव हमारा स्वर्ग था, सब विधि सुख का धाम।।
*
सदा रजाई में दिखे, बाहर दिखे न पाँव।
एक कोट-पतलून में, ढक जाता था गाँव।।
*
समय सभी के पास था, सब थे मस्त मलंग।
गली-गली तब गाँव की, एक दूसरे संग।।
*
लोभी मन गदगद हुआ, लख अलबेले ठाठ।
विस्मृत करने में लगा, बचपन का हर पाठ।।
*
माँ की ममता का मिला, हमको यही निचोड़।
उसके बिन सूना लगे, जीवन का हर मोड़।।
*
अंधी दौड़ विकास की, छोड़े नहीं वजूद।
इत टिहरी जलमग्न है, उत डूबा हरसूद।।
*
तन भीगा बरसात में, मनवा उसके नेह।
याद रहेगा उम्र भर, सखि सावन का मेह।।
*
सावन में झर-झर गया, हुआ प्रफुल्लित गात।
अंकुर फूटे नेह के, चहक उठे दिन रात।।
*
जीवन जीने के लिए, जी इसको भरपूर।
आभासी  संसार से, रख अपने को दूर।।
*
जन प्रतिनिधि सब नाम के, सब जनता से दूर।
प्रजातंत्र के खेल में, जन के सपने चूर।।
*
ऐसे कैसे सौंप दूँ, मैं अपनी तकदीर।
पाँच वर्ष के बाद फिर, बदलूँगा तसवीर।।
*
जंगल के कानून का, देखो तो अंधेर।
लगा मुखौटे भेड़िए, बन बैठे हैं शेर।।
*
कोमल, चंचल तितलियाँ, करें प्रदर्शित प्रीत।
तत्पर हैं, चिंतित नहीं, हार मिले या जीत।।
*
जीवन के सब सिलसिले, उलझाते हैं डोर।
कहने को आजाद हैं, पर ओझल हैं छोर।।
*
दया-धर्म की नीतियाँ, अब तो हुईं फिजूल।
नील-गाय को मारने, केंद्र बताता रूल।।
*
करते खण्डित मूर्ति को, फैलाते उन्माद।
कुछ लोगों के जीन में, दंगा, घृणा, फसाद।।
*
निज युग के अनुरूप ही, कवि रचता इतिहास।
चंद शब्द लेकर भला, क्यों होता उपहास।।
*
नकटों से नकटे मिलें, बजें बेसुरे बीन।
अब कौओं के सामने, कोयल के स्वर दीन।।
*
कह रहीम कब के गए, सुनी न उनकी बात।
पानी अब दुर्लभ हुआ, परखो अब औकात।।
*
जीवन की उलझन बढ़े, पा नकली प्रस्ताव।
कैसे दरिया पार हो, ले कागज की नाव।।
*
भूले भटके ही करें, अब तो प्रभु को याद।
हर बाबा अब देश में, बेच रहा उत्पाद।।
*
गौरैया सुन ले जरा, प्यार भरा संदेश।
तू भी तो खुद को बदल, बदल रहा परिवेश।।
*
अब विकास के मायने, बहुमंजिला मकान।
किश्त चुकाने में चुकें, जीवन के अरमान।।
*
कड़वी वाणी बोलकर, फैलाते उन्माद।
मानव दीखते किंतु हैं, सच दानव-जल्लाद।।
*
आज हो रहा देश में, देख-देख मन खिन्न।
राष्ट्र-प्रेम की बात पर, मत क्यों होता भिन्न।।
*
जब भी दुश्मन ने किए, सीने पर आघात।
मिल लोहा लेते रहे, कागज, कलम, दवात।।
*
बंदे अपने को भला, क्यों कहता नाचीज।
बरगद तो होगा तभी, जब हो उसका बीज।।
*
केवल अच्छे काम से, होता जग में नाम।
लगे निखट्टू का भला, किसको प्यारा चाम।।
*
दृढ़ इच्छा, दृढ़ नियम से, सपने हों साकार।
बिना जतन के तो मिले, जीवन में बस हार।।
*
आँख-आँख डालकर, जो नर करते बात।
दृढ़ इच्छा से जगत में, देते सबको मात।।
*
आँखों में पानी नहीं, दिल में प्रेम न नेंक।
वे दुनिया को लूटते, छल के पाँसे फेंक।।
*
धवल-वस्त्र धारण किए, पर दिल में है खोट।
बगुला-रूपी नर यहाँ, देते सबको चोट।।
*
बिना नमक के कब रुचे, तरकारी का स्वाद।
ऐसे ही बिन भजन के, जीवन है बरबाद ।।
*
जिसके जैसे कर्म हैं, पाता वैसे भोग।
सुख न बिना सत्कर्म के, चाहे साधो जोग।।१०१ 
*
जिनको पाने के लिए हम इतने बेचैन।
क्या उनको मालूम है, हम कितने बेचैन।।
*
वालमीकि रैदास या, बाबा तुलसीदास।
जाति-वर्ग से जोड़कर, क्यों होता उपहास।।
*
रहिमन संत कबीर या, गुरु नानक रैदास।
इनके चिंतन से मिटे, तृषित मनों की प्यास ̊
*
नीर लूट कर हँस रहा, निमर्म टिहरी बाँध। ० 
गंगा मैली हो रही, तन से उठे सड़ाँध।।
*

कोई टिप्पणी नहीं: