बुधवार, 7 मार्च 2018

doha salila

दोहा सलिला:
हिंदी की जयकार हो, सकल विश्व में आज
अंगरेजी हो सहायक, हिंदी के सिर ताज
*
मत जमीन को भूलिए, शिखरों पर जा मीत
नहीं शिखर पर हमेशा, कोई रहता रीत
*
मूर्ति भंजकों का हुआ, जब-जब राज-समाज पैर तले कुचले गए, तब-तब तख्तो-ताज
*
खतरा हमें न शत्रु से, अन्य दलों से बैर
नाश विपक्षी का करें, शत्रु मनाए खैर
*
जो मुल्ला होता नया, ज्यादा खाता प्याज
बनी कहावत सत्य ही, समझ आ रहा आज
*
व्यर्थ परीक्षा ले रहे, करिए पद नीलाम। ख़ास-ख़ास का चयन कर, भूल जाइए आम।।
*
समय न उसके साथ था, समय न इसके संग। वह ऐंठा पछता रहा, तू करता हुडदंग।।
*
मतदाता चाहे जिसे, उसको देता वोट निर्वाचित निष्पक्ष हो, अगर नहीं तो खोट
*
सब वीराने किलों में, गूँज रही है आह
अगिन गोलियाँ घुट मरीं, किसे रही परवाह?
*
जनता की गर्दन दबा, करिए टैक्स वसूल
जनप्रतिनिधि-अफसर पलें, मतदाता को भूल
*
छोटे कर्जेदार की, खींच लीजिए खाल
बड़े-बड़ों को भगाकर, करिए रोज बबाल
*
काँटे बोने से नहीं, महका करते फूल
कुर्सी पाकर सत्य यह, भूलें नहीं हुजूर
*
खेल मौज अभिनय नहीं, हर पाते हैं भूख भूख मिटाते जो वही, मरे जा रहे सूख
*
नौकरशाहों के मिले, नेताओं से हाथ
दल कोई हो रहेगा, सबसे ऊँचा माथ
*
श्रमिक कृषक शिक्षक त्रयी, उत्पादन आधार
यंत्री-डॉक्टर जरूरी, बाकी केवल भार
*

कोई टिप्पणी नहीं: