गुरुवार, 1 मार्च 2018

स्व. श्यामलाल उपाध्याय जी को जन्मतिथि पर सादर श्रृद्धा-सुमन समर्पित.
*













हिंदी हित श्वास-श्वास जिए श्यामलाल जी,
याद को नमन सौ-सौ बार कीजिए.
प्रेरणा लें हम जगवाणी हिंदी को करेंगे,
हिंदी ही दीवाली होगी, हिंदी-होली भीजिए.
काव्य मंदाकिनी न रुके बहती रहे,
सलिल संजीव सँग संकल्प लीजिए.
श्याम की विरासत न बिसराइए कभी.
श्याम की संतानों ये शपथ आज लीजिए.
अभिन्न सखा
संजीव 'सलिल'
७९९९५५९६१८/९४२५१८३२४४
www.divyanarmada.in
salil.sanjiv@gmail.com

कोई टिप्पणी नहीं: