शनिवार, 31 मार्च 2018

सवैया सलिला: ४

सवैया सलिला: ४
विमलेश्वरी सवैया
*
कहेगा कहानी, जमाना जुबानी, करो काम ऐसा, उठो वानर!
नहीं तुच्छ हो रे!, महावीर हो. अंजनी-वायु के पुत्र हो वानर!
छलांगें लगाओ, उडो वायु में भी, न हारो, करो पार रे सागर-
सिया खोज लाओ, सभी को बचाओ. यशस्वी बनाओ रे वानर!
.
विधान: (७ यगण) + लघु लघु
***
salil.sanjiv@gmail.com, ७९९९५५९६१८

कोई टिप्पणी नहीं: