सोमवार, 16 अक्तूबर 2017

muktak

मुक्तक:
कुसुम कली जब भी खिली विहँस बिखेरी गंध
रश्मिरथी तम हर हँसा दूर हट गयी धुंध
मधुकर नतमस्तक करे पा परिमल गुणगान 
आँख मूँद संजीव मत सोना होकर अंध
*
salil.sanjiv@gmail.com 
http://divyanarmada.blogspot.com
#hindi_blogger

कोई टिप्पणी नहीं: