गुरुवार, 19 अक्तूबर 2017

geet

गीत:
दीप, ऐसे जलें...
संजीव 'सलिल' 
*
दीप के पर्व पर जब जलें- 
दीप, ऐसे जलें...
*
स्वेद माटी से हँसकर मिले,
पंक में बन कमल शत खिले।
अंत अंतर का अंतर करे-
शेष होंगे न शिकवे-गिले।।
नयन में स्वप्न नित नव खिलें-
दीप, ऐसे जलें...
*
श्रम का अभिषेक करिए सदा,
नींव मजबूत होगी तभी।
सिर्फ सिक्के नहीं लक्ष्य हों-
साध्य पावन वरेंगे सभी।।
इंद्र के भोग, निज कर मलें-
दीप, ऐसे जलें...
*
जानकी जान की खैर हो,
वनगमन-वनगमन ही न हो।
चीर को चीर पायें ना कर-
पीर बेपीर गायन न हो।।
दिल 'सलिल' से न बेदिल मिलें-
दीप, ऐसे जलें...
*****
sail.sanjiv@gmail.com, 9425183244
http://divyanarmada.blogspot.com
#hindi_blogger

कोई टिप्पणी नहीं: