रविवार, 22 अक्तूबर 2017

navgeet

नवगीत:
डॉक्टर खुद को
खुदा समझ ले
तो मरीज़ को 
राम बचाये
लेते शपथ
न उसे निभाते
रुपयों के
मुरीद बन जाते
अहंकार की
कठपुतली हैं
रोगी को
नीचा दिखलाते
करें अदेखी
दर्द-आह की
हरना पीर न
इनको भाये
अस्पताल या
बूचड़खाने?
डॉक्टर हैं
धन के दीवाने
अड्डे हैं ये
यम-पाशों के
मँहगी औषधि
के परवाने
गैरजरूरी
होने पर भी
चीरा-फाड़ी
बेहद भाये
. शंका-भ्रम
घबराहट घेरे
कहीं नहीं
राहत के फेरे
नहीं सांत्वना
नहीं दिलासा
शाम-सवेरे
सघन अँधेरे
गोली-टॉनिक
कैप्सूल दें
आशा-दीप
न कोई जलाये
**
salil.sanjiv@gmail.com, ९४२५१८३२४४ 
http://divyanarmada@blogspot.com
#हिंदी_ब्लॉगर 

कोई टिप्पणी नहीं: