शनिवार, 14 अक्तूबर 2017

kundaliya

कविता दीप
*
पहला कविता-दीप है छाया तेरे नाम
हर काया के साथ तू पाकर माया नाम
पाकर माया नाम न कोई  विलग रह सका
गैर न तुझको कोई किंचित कभी कह सका
दूर न पाया कोई भी तुझको बहला
जन्म-जन्म का बंधन यही जीव का पहला

दीप-छाया
*
छाया ले आयी दिया, शुक्ला हुआ प्रकाश
पूँछ दबा भागा तिमिर, जगह न दे आकाश
जगह न दे आकाश, धरा के हाथ जोड़ता
'मैया! जो देखे मुखड़ा क्यों कहो मोड़ता?
कहाँ बसूँ? क्या तूने भी तज दी है माया?'
मैया बोली 'दीप तले बस ले निज छाया
***
salil.sanjiv@gmail.com, ९४२५१८३२४४
http:/divyanarmada.blogspot.com
#हिंदी_ब्लॉगर 

कोई टिप्पणी नहीं: