शुक्रवार, 13 अक्तूबर 2017

geet

एक गीत: 
किस पग के नूपुर खनके मन-वृन्दावन में आज सखे!
किस पग-रज की दिव्य स्वामिनी का मन-आँगन राज सखे!
*
कलरव करता पंछी-पंछी दिव्य रूप का गान करे.
किसकी रूपाभा दीपित नभ पर संध्या अभिमान करे?
किसका मृदुल हास दस दिश में गुंजित ज्यों वीणा के तार? 
किसके नूपुर-कंकण ध्वनि में गुंजित हैं संतूर-सितार?
किसके शिथिल गात पर पंखा झलता बृज का ताज सखे!
किस पग के नूपुर खनके मन-वृन्दावन में आज सखे!
किसकी केशराशि श्यामाभित, नर्तन कर मन मोह रही?  
किसके मुखमंडल पर लज्जा-लहर जमुन सी सोह रही?
कौन करील-कुञ्ज की शोभा, किससे शोभित कली-कली? 
किस पर पट-पीताम्बरधारी, मोहित फिरता गली-गली? 
किसके नयन बाणकान्हा पर गिरते बनकर गाज सखे!
किस पग के नूपुर खनके मन-वृन्दावन में आज सखे!
किसकी दाड़िम पंक्ति मनोहर मावस को पूनम करती? 
किसके कोमल कंठ-कपोलों पर ऊषा नर्तन करती? 
किसकी श्वेताभा-श्यामाभित, किससे श्वेताभित घनश्याम? 
किसके बोल वेणु-ध्वनि जैसे मीठे, करपल्लव-कोमल अभिराम?
किस पर कौन हुआ बलिहारी, कैसे, कब-किस व्याज सखे?
किस पग के नूपुर खनके मन-वृन्दावन में आज सखे!
किसने नीरव को रव देकर, भव को वैभव दिया अनूप?
किसकी रूप-राशि से रूपित भवसागर का कण-कण भूप?
किससे प्रगट, लीन किसमें हो, हर आकार-प्रकार, विचार? 
किसने किसकी करी कल्पना, कर साकार, अवाक निहार?
किसमें कर्ता-कारण प्रगटे, लीन क्रिया सब काज सखे!
किस पग के नूपुर खनके मन-वृन्दावन में आज सखे!
*****
http://divyanarmada.blogspot.com 
salil.sanjiv@gmail.com, 9425183244 
#hindi_blogger

कोई टिप्पणी नहीं: