मंगलवार, 24 अक्तूबर 2017

doha

दोहा सलिला 

परमब्रम्ह ओंकार है, निराकार-साकार 
चित्रगुप्त कहते उसे, जपता सब संसार 
*
गणपति-शारद देह-मन, पिंगल ध्वनि फूत्कार
लघु-गुरु द्वैताद्वैत सम, जुड़-घट छंद अपार 
वेद-पाद बिन किस तरह, करें वेद-अभ्यास 
सुख-सागर वेदांग यह, पढ़-समझें सायास 
*
नेह नर्मदा की लहर, सम अवरोहारोह 
गति-यति, लय का संतुलन, सार्थक मन ले मोह 
*
लिपि-अक्षर मिल शब्द हो, देते अर्थ प्रतीति 
सार्थक शब्दों में निहित, सबके हित की नीति 
*
वर्ण-मात्रा-समुच्चय, गद्य-पद्य का मूल
वाक्य गद्य, पद पद्य बन, महके जैसे फूल 
*
सबका हित साहित्य में, भर देता है जान   
कथ्य रुचे यदि समाहित, भाव-बिम्ब-रसवान  
*
वर्ण मात्रा भाव मिल, रच देते हैं छंद 
गति-यति-लय की त्रिवेणी, लुटा सके आनंद 
*
दृश्य-प्रतीकों से बने, छंद सरस गुणवान 
कथन सारगर्भित रहे, कहन सरस रसखान 
*


कोई टिप्पणी नहीं: