रविवार, 30 सितंबर 2018

doha dahej

दोहे दहेज़ पर
*
लें दहेज़ में स्नेह दें, जी भर सम्मान
संबंधों को मानिए, जीवन की रस-खान
*
कुलदीपक की जननी को, रखिए चाह-सहेज
दान ग्रहण कर ला सके, सच्चा यही दहेज
*
तीसमारखां गए थे, ले बाराती साथ
जीत न पाए हैं किला, आए खाली हाथ
*
शत्रुमर्दिनी अकेली, आयी बहुत प्रबुद्ध
कब्ज़ा घर भर पर किया, किया न लेकिन युद्ध
*
जो दहेज की माँग कर, घटा रहे निज मान
समझें जीवन भर नहीं, पाएँगे सम्मान
*
संजीव
३०-९-२०१८
http://divyanarmada.blogspot.in/

कोई टिप्पणी नहीं: