बुधवार, 12 सितंबर 2018

hartalika ke dohe

हरतालिका तीज
*
गौरा बौरा के लिए, करें तीज व्रत मौन
कठिनाई क्यों सरल हो, बूझ सकेगा कौन?
*
भिन्न न रह जब भी हुए, दो मन मिलकर एक
हर कंकर शंकर हुआ, लिए इरादे नेक.
*
नाद करें चढ़ नादिया, भोले झूमे मस्त
ताल दे रहीं है उमा, थाम हस्त में हस्त
*
चाँद-चाँदनी की तरह, सदा रहें जो साथ
उस दम्पति का कभी भी, झुका न जग में माथ
*
चाँद और आकाश में, युग-युग का संबंध
धरा-चाँदनी ने किया, चिर कालिक अनुबंध
*
न्यायालय ने कह दिया, बदलो अब कानून
आबादी बढ़ना रुके, तुरत सून से सून
*
कुछ दिन की हरतालिका, पिछड़ापन उपवास
कोर्ट कर रही हाय क्यों, संस्कृति का उपहास?
*
जज की जजनी बाई जी, चाहें पिज्जा रोज
इसीलिए यह फैसला, हुआ कर सकें भोज
*
सात जन्म का वचन दे, मोदी बैठे छोड़
मोदिन व्रत कैसे करें, नाता सकीं न जोड़
*
बौरा-गौरा भीत हैं. भारत का लाख हाल
छोड़ गए कैलाश भी, राहुल करें न ढाल
*
ख़ास-ख़ास को दीजिए, उमा-महेश्वर दंड
आम आदमी की विपद, हरें मिटा पाखंड
*
जोड़ सके हरितालिका, मन के टूटे तार
जन्म-जन तक निभ सके, सबका सच्चा प्यार
११.९.२०१८
***


कोई टिप्पणी नहीं: