शनिवार, 29 सितंबर 2018

doha yamak

गले मिले दोहा-यमक                                                                                                                                      
*
गया गया है गया को, तर्पण करने आज
रहें सदय प्रभु हो सके, बिना विघ्न सब काज
*                                                                                                                                                                 
राम राम यह क्या हुआ, बोल पड़े श्री राम
सिया समाई धरा में, कौन रहेगा वाम
*
गौ को दोहा ही नहीं, दोहा रच तल्लीन
दोहा बैठे पूत ने, भेजे चित्र नवीन
*
भोग दिखा भगवान को, भोग लगाते भक्त
देख रहे भगवान जी, कितने हुए अशक्त
*
लेखा अधिकारी कहे, समझो कुछ तो अर्थ
ले खा अधिकारी न ले, खा क्यों बैठे व्यर्थ
*                                                                                                                                                                

अना अना सह हँस रही , अनायास दुःख भूल 
कली खिली रो हँस पड़ी, अना आना का मूल 
*
शम्स शम्स से झाँकता, निकल रहा है शम्स 
शम्स तपे, छतरी लिए, जान बचाता शम्स 
*
सुधि न सुधा की सुधा दे, भुला दीजिए ध्यान
सुधा लुटाता सुधाकर, पाता जग से मान
*

कोई टिप्पणी नहीं: