सोमवार, 17 सितंबर 2018

दोहा

हर पल हिंदी को जिएँ, दिवस न केवल एक।
मानस मैया मानकर, पूजें सहित विवेक।।

कोई टिप्पणी नहीं: