बुधवार, 26 सितंबर 2018

दोहा सलिला

दोहा सलिला अनुभूति
*
जो घटता सुन-देखकर, अच्छी-बुरी प्रतीति।
होती मन में वही है,  मानव की अनुभूति ।।
*
कर्म करें अनुभव मिले, क्या-किसका परिणाम।
कब अनुकूल हुआ समय, कब विधि होती वाम।।
*
कर पढ़ छू चख देख सुन, गुनकर कर अनुमान।
अनुभव को अनुभव करें, हो अनुभूति अनाम।।
*
ग्यान-कर्म दस इंद्रियाँ, मिल करतीं चैतन्य।
हो अनुभूति-प्रतीति तब, अनुभव सत्य अनन्य।।
*
ग्यान-ध्यान से जो मिले, कौन कर सके व्यक्त।
गूँगे का गुड़ जानिए, रहता भले अव्यक्त।।
*
ग्यान सूर्य को स्वार्थ का, राहु न ग्रस ले मीत।
केतु द्वेष का दूर हो, करें निरंतर लेख।।
*
कामधेनु है ग्यान दे, मनचाहा परिणाम।
भला-बुरा जैसा करें, काम मिले अंजाम।।
*
संजीव, २६-९-२०१८

कोई टिप्पणी नहीं: