गुरुवार, 12 जुलाई 2018

karyashala

कार्यशाला:
दो कवि रचना एक:
सोहन 'सलिल' - संजीव वर्मा 'सलिल'
*
भावों की टोली फँसी, किसी खोह के बीच।
मन के गोताखोर हम, लाए सुरक्षित खींच।।  -सोहन 'सलिल'

लाए सुरक्षित खींच, अकविता की चट्टानें।  
कर न सकीं नुकसान, छंद थे सीना ताने।। 
हुई अंतत: जीत,बिंब-रस की नावों की।  
अलंकार-लय लिखें, जय कथा फिर भावों की।। संजीव 'सलिल' 
***   

कोई टिप्पणी नहीं: