मंगलवार, 10 जुलाई 2018

dwipadi

द्विपदी:
करें शिकवे-शिकायत आप-हम, दिन-रात अपनों से।
कभी गैरों से कोई बात मन की, कह नहीं सकता।।
*

कोई टिप्पणी नहीं: