सोमवार, 11 जून 2018

दोहा

दोहा मुक्तिका 
*
कब क्या करना किसलिए, कहाँ सोच अंजाम।
किस विधि करना तय करें, हो निश्चित परिणाम।।
*
किसने किससे क्या कहा, ध्यान न दे कर काम।
इसकी उससे मत लगा, भला करेंगे राम।।
*
क्या पाया; क्या खो दिया, दिया-लिया क्या दाम? 
जो इसमें उलझा रहा, उससे वामा वाम।।
*
किया न होता अनकिया, मिले-मत मिले नाम।
करने का संतोष ही, कर्ता का ईनाम।।
*
कह न किस दिवस सुबह हो, कब न हुई कह शाम।
बीती बातें यादकर, क्यों बैठा मृत थाम।।
*
कौन उगा? यह देखकर, दुनिया करे प्रणाम।
कभी न लेती डूबते, सूरज का वह नाम।।
*
कल रव हो; या शांति हो, रखे न किंचित काम।
कलकल कर रेवा कहे, रखो काम से काम।।
***
11.6.2018, 7999559618
http://divyanarmada.blogspot.in

कोई टिप्पणी नहीं: