गुरुवार, 7 जून 2018

सड़गोड़ासनी 4: सखी री! गाओ

सड़गोड़ासनी 4: 
सखी री! गाओ
*
सखी री! गाओ सड़गोड़ा,
सीखें मोंड़ी-मोंड़ा।
सखी री!...
*
हिरा नें जाएँ छंद कहूँ जे,
मन खों रुचे निगोड़ा।
सखी री!...
*
'राइम' रट रय, अरथ नें समझें
जैसें दौड़े घोड़ा।
सखी री!...
*
घटे नें अन-धन दान दिए सें,
देखो दें कें थोड़ा।
सखी री!...
*
लालच-दंभ, चैन कें दुसमन,
मारे, गिनें नें कोड़ा।
सखी री!...
*
आधी छोड़ एक खों धावा,
पाएँ नें हिंसा छोड़ा।
सखी री?...
*
4.6.2018, 7999559618
salil.sanjiv@gmail.com

कोई टिप्पणी नहीं: