बुधवार, 20 जून 2018

कुंडलिया सलिला

केर-बेर के संग सम, महबूबा-महबूब।
स्वार्थ साधने मिल गए, राजनीति में डूब।।
राजनीति में डूब, न उनको मिला किनारा।
गए शीघ्र ही ऊब, हो गया दिल-बँटवारा।।
साथ-साथ या दूर, विषम न हों रह साथ सम।
महबूबा-महबूब, केर-बेर के संग सम।।
*

कोई टिप्पणी नहीं: