बुधवार, 20 जून 2018

दोहा गीत

दोहा गीत
*
जब-जब मिला कबीर से, काबिल पूत कमाल।
तब-तब लोई हँस पड़ी, होगा बहुत धमाल...
*
ज्यों की त्यों चादर रखे, बाप सहेज-सहेज।
त्यों की त्यों क्यों चाहिए, पूत बिछाता सेज।।
यह चुप वह भी मौन; लख, मुँह दोनों के लाल।
छुपकर लोई हँस पड़ी, बन दोनों की ढाल...
*
बाँट-बटोरो खेलते, दोनों मिलकर खेल।
ठिठक कमाली हँस रही, देख मेल बेमेल।।
भिन्न-अभिन्न समझ रही, नहीं बजाती गाल।
कभी-कभी दे रही है, इस-उस के सँग ताल...
*
यह दो पाटों बीच है, वह कीली के साथ।
झुका-उठा बेदाग ही, है दोनों का माथ।।
इसीलिए तो है नहीं, मन में तनिक मलाल।
किसका उत्तर कौन दे, दोनों हुए सवाल...
*
लुटा-सम्हाला; सार है, किसमें कौन असार।
माँ-बेटी सच जानतीं, इस बिन वह निस्सार।।
उस बिन इसका भी हुआ, आप हाल-बेहाल।
दोनों ही सच जानते,  किंतु न कहते टाल...
*
पीठ फेर सो; जब जगे, अधरों पाया हास।
भुज-भर हँसते ठठाकर, पल में भागा त्रास।।
सूत कातकर बुन रहे, ताना-बाना-शाल।
जिएँ आज में आज को, कल की जाने काल...
***
20.6.2018, 7999559618

कोई टिप्पणी नहीं: