शुक्रवार, 8 जून 2018

दोहा सलिला

दोहा
*
सोनपरी भू पर उतर, नाच रही; हो धूप।
उषा राजरानी मुदित, रवि नृप हेरे रूप।।
*
सूर्य रश्मि शर छोड़ता, तम भागा ले प्राण।
कीर्ति-कथा कहते विहग, सुन हो जग संप्राण।।
*
कोयल शहनाई बजा, गौरैया कर नृत्य।
मिट्ठू जीजा से कहें, मन भाया शुभ कृत्य।।
*
कौआ पंडित पढ़ रहा, काँव-काँव कर मंत्र।
टर्र-टर्र मेंढक करे, बजा बैंड के यंत्र।।
*
जुही-चमेली सरहजें, नमक चाय में घोल।
इठलातीं; जीजा विवश, पिएँ मौन बिन बोल।।
*
आ देवर जासौन ने, खूब जमाया रंग।
गारी गाती भौजियाँ, हुए बराती तंग।।
*
बेला-वेणी पा हुई, चंपा साली मौन।
प्रणयपत्रिका दे गया, आँख बचाकर कौन।।
*
लाल गुलाबी कली के, हुए गुलाबी गाल।
छेड़े भँवरा बावरा, चंपा करे धमाल।
*
झरबेरी मौसी हँसी, सुना गीत ज्यौनार।
पीपल चाचा झूमते, मन ही मन मन हार।।
*
दोहा मन को मोहता, चौपाई चितचोर।
छप्पय छूता हृदय को, बाँध सवैया डोर।।
*
षटपदी
चैन हर रहा त्रिभंगी, उल्लाला दिल लूट।
कुंडलिया का कर लिए, रोला करता हूट।।
रोला करता हूट, शूट कर रहा माहिया।
गिद्धा-टप्पा नचें, विकल सोरठा को किया।।
आल्हा पर स्रग्विणी, रीझकर रही न चंगी।
गया हाथ से हृदय, चैन हर रहा त्रिभंगी।।
*
8.6.2018, 7999559618

कोई टिप्पणी नहीं: