रविवार, 17 जून 2018

पिता पर दोहे

पिता पर दोहे:
*
पिता कभी वट वृक्ष है, कभी छाँव-आकाश।
कंधा, अँगुली हैं पिता, हुए न कभी हताश
*
पूरा कुनबा पालकर, कभी न की उफ़-हाय
दो बच्चों को पालकर, हम क्यों हैं निरुपाय?
*
थके, न हारे थे कभी, रहे निभाते फर्ज
पूत चुका सकते नहीं, कभी पिता का कर्ज
*
गिरने से रोका नहीं, चुपा; कहा: 'जा घूम'
कर समर्थ सन्तान को, लिया पिता ने चूम
*
माँ ममतामय चाँदनी, पिता सूर्य की धूप
दोनों से मिलकर बना, जीवन का शुभ रूप
*
पिता न उँगली थामते, होते नहीं सहाय
तो हम चल पाते नहीं, रह जाते असहाय
*
माता का सिंदूर थे, बब्बा का अरमान
रक्षा बंधन बुआ का, पिता हमारी शान
*
कभी न लगने दी पता, पितृ-ह्रदय ने पीर
दुख सह; सुख बाँटा सदा, चुकी न किंचित धीर
*
दीवाली पर दिया थे, होली पर थे रंग
पिता किताबें-फीस थे, रक्षा हित बजरंग
*
पिता नमन शत-शत करें, संतानें नत माथ
गये न जाकर भी कहीं, श्वास-श्वास हो साथ
*
१७.६.२०१८, ७९९९५५९६१८
salil.sanjiv@gmail.com

कोई टिप्पणी नहीं: