शनिवार, 16 जून 2018

दोहा सलिला

दोहा सलिला
*
कलकल सुन कर कल मिले. कल बनकर कल नष्ट।
कल बिसरा बेकल न हो, अकल मिटाए कष्ट।।
*
शब्द शब्द में भाव हो, भाव-भाव में अर्थ।
पाठक पढ़ सुख पा सके, वरना दोहा व्यर्थ।।
*
मेरा नाम अनाम हो, या हो वह गुमनाम।
देव कृपा इतनी करें, हो न सके बदनाम।।
*
चेले तो चंचल रहें, गुरु होते गंभीर।
गुरु गंगा बहते रहे, चेले बैठे तीर।।
*
चेला गुरु का गुरु बने, पल में रचकर स्वांग।
हँस न करता शोरगुल, मुर्गा देता बांग।।
*
१६.६.२०१८ -, ७९९९५५९६१८


कोई टिप्पणी नहीं: