मंगलवार, 15 मई 2018

दोहा सलिला

दोहा सलिला
निवेदन
*
दोहा इंगित में कहे, सरल बना; सच क्लिष्ट।
मति अनुरूप समझ सकें, पाठक सुमिरें इष्ट।।
*
भाव-अर्थ त्यों शब्द में, ज्यों बारिश-जलबिंदु।
नहीं पुरातन; सनातन,  गगन चंद्रिका इंदु।।
*
संकेतों को ग्रहणकर, चिंतन-मनन न भूल।
टहनी पर दोनों मिलें, फूल चुने या शूल।।
*
जब भी निकले बात तो, जाती है वह दूर।
समझदार सुन-समझता, सुने न जो मद-चूर।।
*
अपनी-अपनी समझ है, अपना-अपना बोध।
मन न व्यर्थ प्रतिरोध कर, तू क्यों बने अबोध।।
*
मिले प्रेरणा तो ग्रहण, कर छाया रह मौन।
पुष्पाए मन-वाटिका, कब-क्यों जाने कौन?
*
सुमन सु-मन की लता पर,  खिलते बाँट सुगंध।
अमरनाथ-सिर शशि सदृश,
चढ़ते तज भव-बंध।।
*
श्यामल पर गोरी रिझे, गोरी चाहें श्याम।
धार पुनीता जमुन की, साक्षी स्नेह अनाम।।
*
रे मन! उनको नमन कर, जो कहते आचार्य।
उनके मन में बसा है, सकल सृष्टि-प्राचार्य।।
*
जिया प्रजा में ही सदा, किंग-क्वीन सच मान।
भक्त बिना कब हो सका, परमब्रम्ह भगवान।।
*
करता है राजेंद्र कब, आगे बढ़ श्रमदान।
वादे को जुमला बता, बने नरेंद्र महान।।
*
15.5.2018

कोई टिप्पणी नहीं: