रविवार, 20 मई 2018

शिव सूत्र: श्री श्री रविशंकर

दोहांतरण
श्री श्री रविशंकर:शिवसूत्र
प्रथम खंड: चैतन्य आत्मा
*
शुभ जीवन में घट रहा, पर मन जाता भूल।
अशुभ नकारात्मक पकड़, नाहक देते तूल।।
*
यही नकारात्मक अशुभ, अपना हुआ स्वभाव।
मुक्ति मिले शिवसूत्र से, शुभ का बढ़े प्रभाव।।
*
शिव शुभ सुंदर सत्य से, कर सकते भव पार।
है उपाय शिव सूत्र ही, भव से तारणहार।।
*
शिव कहते: चैतन्य है, आत्मा; करो तलाश।
वस्तु नहीं; वह दूर भी, नहीं; पा सको काश।।
*
सकल सृष्टि जिससे बनी, आत्मा वह चैतन्य।
अपना अनुभव भी हमें, करा रहा अन-अन्य।।
*
बढ़ता जब चैतन्य तब, बढ़ जाता है होश।
सोया खुद को जानकर, भी रहता बेहोश।।
*
मनु सोया या जागता, दोनों में चैतन्य।
सोया जान न पा रहा, जागा जाने, धन्य।।
*
संजीव, 20.5.2018
salil.sanjiv@gmail. com

कोई टिप्पणी नहीं: