रविवार, 13 मई 2018

श्री श्री रविशंकर जयंती:दोहांजलि

गुरु जलवत निर्मल-तरल,  क्षीर लुटाते घोल।
पंकज रख तलहटी में,  बाँटें पंकज बोल।।
*
प्रवहमान हैं पवनवत,  दूर करें दुर्गंध ।
वैचारिक ताजी हवा,  प्रग्या परक सुगंध।।
*
अग्नि बनें गुरु भस्मकर,  भ्रम विद्वेष अशांति।
कच्चे को देते पका,  कर वैचारिक क्रांति।।
*
गुरु वसुधा हैं मातृवत, करते सबसे स्नेह।
ममता-करुणा-सिंधुसम, दूर करें संदेह।।
*
गुरु विस्तीर्ण-विरा़ट नभ,  दस दिश आभ अनंत।
शून्य-शब्द में व्याप्त हैं,  ध्वनि बनकर गुरु संत।।
*
पंचतत्व गुरु-शिष्य हैं, एक-एक मिल एक।
पारस पा लोहा बने,  सोना सहित विवेक।।
*
गिरिवर अनहद नाद हैं, सकल सृष्टि में व्याप्त।
आप आप में लीन हों, बना आप को आप्त।।
***
salil.sanjiv@gmail.com, 9425183244.

कोई टिप्पणी नहीं: