मंगलवार, 22 मई 2018

भूकंपीय याद

गर्जा था भूकंप ज्यों, शत गज रहे चिंघाड़।
लज्जित हो वनराज भी, भूला आप दहाड़।।
*

कोई टिप्पणी नहीं: