रविवार, 20 मई 2018

दोहा

दोहा दुनिया आज की:
*
छीन रहे थे और के, मुँह से रोटी-कौर.
अपने मुँह से छिन गया, आया ऐसा दौर.
*
कर्नाटक में गिर गए,  औंधे मुँह खो लाज।
शाह लबारी हारकर, जीती बाजी-ताज।।

*
कर्नाटक में गिर गए,  औंधे मुँह खो लाज।
शाह लबारी हारकर, जीती बाजी-ताज।।

*
समय छोड़ पाया नहीं, अपना तनिक प्रभाव
तब सा अब भी चेहरा, आदत, मृदुल स्वभाव

*
मार पड़े जब समय की, बढ़ता अनुभव-तेज।
तब करते थे जंग, रंग जमा हुए रंगरेज
मन बच्चा-सच्चा रहे, कच्चा तन बदनाम।  
बिन टूटे बादाम हो, टूटे तो बेदाम।। 
*
कैसे हैं? क्या होएँगे?, सोच न आती काम। 
जैसा चाहे विधि रखे, करे न बस बेकाम।
*
कांता जैसी चाँदनी, लिये हाथ में हाथ।
कांत चाँद सा सोहता, सदा उठाए माथ।।
*  
मिल कर भी मिलती नहीं, मंजिल खेले खेल। 
यात्रा होती रहे तो, हर मुश्किल लें झेल।।  
*

बाल बाल बच रहे हम, बाल-बाल 

कोई टिप्पणी नहीं: