बुधवार, 30 मई 2018

दोहा सलिला

दोहा सलिला
*
वसुंधरा से मिल गले, बारिश होती धन्य।
बहनापे का सुख 'सलिल', दुर्लभ दिव्य अनन्य।।
*
बारिश बिटिया मायके, आई रोई डूब।
ममता के सैलाब में, धरा जा रही डूब।।
*
बूँद पसीने की झरीं, या होती बरसात।
जहाँ गिरें जन्नत वहीं, करें रात को प्रात।।
*

कोई टिप्पणी नहीं: