गुरुवार, 5 अक्तूबर 2017

doha ram

दोहा पंचक
*
मिलते हैं जगदीश यदि, मन में हो विश्वास
सिया-राम-जय गुंजाती, जीवन की हर श्वास
*
आस लखन शत्रुघ्न फल, भरत विनम्र प्रयास
पूर्ण समर्पण पवनसुत, दशकंधर संत्रास
*
त्याग-ओज कैकेई माँ, कौसल्या वनवास
दशरथ इन्द्रिय, सुमित्रा है कर्तव्य-उजास
*
संयम-नियम समर्पिता, सीता-तनया हास
नेह-नर्मदा-सलिल है, सरयू प्रभु की ख़ास
*
वध न अवध में सत्य का, होगा मानें आप
रामालय हित कीजिए, राम-नाम का जाप
*****
salil.sanjiv@gmail.com
http://divyanarmada.blogspot.com
२०४ विजय अपार्टमेंट, नेपियर टाउन जबलपुर
#हिंदी_ब्लॉगर

कोई टिप्पणी नहीं: