शनिवार, 16 फ़रवरी 2019

राजेंद्र तिवारी, कृष्णकांत चतुर्वेदी, सुरेश कुमार वर्मा, इला घोष

मुख्य अतिथि
माननीय राजेंद्र तिवारी जी 
*
साहित्य और संस्कृति को श्वास-श्वास जीने जीने और  सनातन मूल्यों की मशाल थामकर न्याय व्यवस्था को देश हुए समाज के प्रति संवेदनशील और सजग बनाये रखने के लिए गत ५५ वर्षों से सतत सक्रिय माननीय राजेंद्र तिवारी जी संस्कारधानी के ऐसे सपूत हैं जो अपनी विद्वता, वाग्वैदग्ध्य, विश्लेषण सामर्थ्य, अन्वेषण दृष्टि तथा प्रभावी भाषावली के लिए जाने जाते हैं।  १४ अप्रैल १९३६ को जन्में तिवारी जी ने शिक्षक, पत्रकार व् अधिवक्ता के रूप में अपनी कार्य शैली, समर्पण, निपुणता  तथा नवोन्मेषपरक दृष्टि की छाप समाज पर छोड़ी है। वरिष्ठ अधिवक्ता, सदस्य नियम निर्माण समिति तथा उपमहाधिवक्ता के रूप में आपकी कार्य कुशलता से प्रभावित मध्य प्रदेश शासन ने महाधिवक्ता के रूप में आपका चयन कर दूरदृष्टि का परिचय दिया है। 
बहुमुखी प्रतिभा तथा बहु आयामी सक्रियता के धनी माननीय तिवारी जी ने संगीत समाज जबलपुर के अध्यक्ष, जबलपुर शिक्षा समिति के अध्यक्ष, इंटेक के आजीवन सदस्य, परिवार नियोजन संघ के सचिव, अमृत बाजार पत्रिका के संवाददाता, रोटरी क्लब के अध्यक्ष व् सह प्रांतपाल के रूप में ख्याति अर्जित की। आपने विश्व विख्यात दार्शनिक आचार्य रजनीश के साथ अखिल भारतीय डिबेटर के रूप में पुरस्कृत होकर अपनी प्रतिभा का परिचय विद्यार्थी काल में ही दे दिया था। 
'योग: कर्मसु कौशलम' के आदर्श को जीते तिवारी जी नई पीढ़ी के आदर्श हैं। वे नर्मदा को मैया और जबलपुर को अपना घर मानते हुए सबके भले के लिए कर्मरत रहते हैं। साहित्य तथा संस्कृति जगत को आपका मार्गदर्शन सतत प्राप्त होता है। आपके पास संस्मरणों का अगाध भण्डार है। हमारा अनुरोध है की आप अपनी आत्मकथा और संस्मरण लिखकर हिंदी वांग्मय को समृद्ध करें। 
***
अध्यक्ष 
आचार्य कृष्णकान्त चतुर्वेदी जी 
भारतीय मनीषा के श्रेष्ठ प्रतिनिधि, विद्वता के पर्याय, सरलता के सागर, वाग्विदग्धता के शिखर आचार्य कृष्णकांत चतुर्वेदी जी का जन्म १९ दिसंबर १९३७ को हुआ। राष्ट्रकवि मैथिलीशरण गुप्त जी की निम्न पंक्तियाँ आपके व्यक्तित्व पर सटीक बैठती हैं- 
जितने कष्ट-कंटकों में है जिसका जीवन सुमन खिला  
गौरव गंध उसे उतना ही यत्र-तत्र-सर्वत्र मिला।।
कालिदास अकादमी उज्जैन के निदेशक, रानी दुर्गावती विश्वविद्यालय जबलपुर में संस्कृत, पाली, प्रकृत विभाग के अध्यक्ष व् आचार्य पदों की गौरव वृद्धि कर चुके, भारत सरकार द्वारा शास्त्र-चूड़ामणि मनोनीत किये जा चुके, अखिल भारतीय प्राच्य विद्या परिषद् के सर्वाध्यक्ष निर्वाचित किये जा चुके, महामहिम राष्ट्रपति जी द्वारा प्राच्य विद्या के विशिष्ट विद्वान के रूप में सम्मानित, राजशेखर अकादमी के निदेशन आदि अनेक पदों की शोभा वृद्धि कर चुके आचार्य जी ने ४० छात्रों को पी एच डी, तथा २ छात्रों को डी.लिट् करने में मार्गदर्शन दिया है। राधा भाव सूत्र, आगत का स्वागत, अनुवाक, अथातो ब्रम्ह जिज्ञासा, ड्वायर वेदांत तत्व समीक्षा, आगत का स्वागत, बृज गंधा, पिबत भागवतम, आदि अबहुमूल्य कृतियों की रच कर आचार्य जी ने भारती के वांग्मय कोष की वृद्धि की है। 
जगद्गुरु रामानंदाचार्य सम्मान, पद्मश्री श्रीधर वाकणकर सम्मान, अखिल भारतीय कला सम्मान, ज्योतिष रत्न सम्मान, विद्वत मार्तण्ड, विद्वत रत्न, सम्मान, स्वामी अखंडानंद सामान, युगतुलसी रामकिंकर सम्मान, ललित कला सम्मान, अदि से सम्मानित किये जा चुके आचार्य श्री संस्कारधानी ही नहीं देश के गौरव पुत्र हैं। आप अफ्रीका, केन्या, वेबुये आदि देशों में भारतीय वांग्मय व् संस्कृति की पताका फहरा चुके हैं। आपकी उपस्थिति व आशीष हमारा सौभाग्य है। 
***
विशिष्ट वक्ता 
डॉ. सुरेश कुमार वर्मा 
श्रद्धेय डॉ. सुरेश कुमार वर्मा नर्मदांचल की साधनास्थली संस्कारधानी जबलपुर के गौरव हैं। "सदा जीवन उच्च विचार" के सूत्र को जीवन में मूर्त करने वाले डॉ. वर्मा अपनी विद्वता के सूर्य को सरलता व् विनम्रता के श्वेत-श्याम मेघों से आवृत्त किये रहते हैं। २० दिसंबर १९३८ को जन्मे डॉ. वर्मा ने प्राध्यापक हिंदी, विभागाध्यक्ष हिंदी, प्राचार्य तथा अतिरिक्त संचालक उच्च शिक्षा के पदों पर रहकर शुचिता और समर्पण का इतिहास रचा है। आपके शिष्य आपको ऋषि परंपरा का आधुनिक प्रतिनिधि मानते हैं। 
शिक्षण तथा  सृजन राजपथ-जनपथ पर कदम-डर-कदम बढ़ते हुए आपने मुजताज महल, रेसमान, सबका मालिक एक, तथा महाराज छत्रसाल औपन्यासिक कृतियोन की रचना की है। निम्न मार्गी व दिशाहीन आपकी  नाट्य कृतियाँ हैं। जंग के बारजे पर तथा मंदिर एवं अन्य कहानियाँ कहानी संग्रह तथा करमन की गति न्यारी, मैं तुम्हारे हाथ का लीला कमल हूँ आपके निबंध संग्रह हैं। डॉ. राम कुमार वर्मा की नाट्यकला आलोचना तथा हिंदी अर्थान्तर भाषा विज्ञान का ग्रन्थ है। इन ग्रंथों से आपने बहुआयामी रचनाधर्मिता व् सृजन सामर्थ्य की पताका फहराई है। 
डॉ. सुरेश कुमार वर्मा हिंदी समालोचना के क्षेत्र में व्याप्त शून्यता को दूर करने में सक्षम और समर्थ हैं। सामाजिक विषमता, विसंगति, बिखराब एयर टकराव के दिशाहीन मानक तय कर समाज में अराजकता बढ़ाने की दुष्प्रवृत्ति को रोकन ेमें जिस सात्विक और कल्याणकारी दृष्टि की आवश्यकता है, आप उससे संपन्न हैं। 
***
विशिष्ट वक्ता डॉ. इला घोष  
वैदिक-पौराणिक काल  की विदुषी महिलाओं गार्गी, मैत्रेयी, लोपामुद्रा, रोमशा, पार्वती, घोषवती की परंपरा को इस काल में महीयसी महादेवी जी व चित्रा चतुर्वेदी जी के पश्चात् आदरणीया िला घोष जी ने निरंतरता दी है। ४३ वर्षों तक महाविद्यालयों में शिक्षण तथा प्राचार्य के रूप में दिशा-दर्शन करने के साथ ७५ शोधपत्रों का लेखन-प्रकाशन व १३० शोध संगोष्ठियों को अपनी कारयित्री प्रतिभा से प्रकाशित करने वाली इला जी संस्कारधानी की गौरव हैं। 
संस्कृत वांग्मय में शिल्प कलाएँ, संस्कृत वांग्मये कृषि विज्ञानं, ऋग्वैदिक ऋषिकाएँ: जीवन एवं दर्शन, वैदिक संस्कृति संरचना, नारी योगदान विभूषित, सफलता के सूत्र- वैदिक दृष्टि, व्यक्तित्व विकास में वैदिक वांग्मय का योगदान, तमसा तीरे तथा महीयसी आदि कृतियां आपके पांडित्य तथा सृजन-सामर्थ्य का जीवंत प्रमाण हैं। 
दिल्ली संस्कृत साहित्य अकादमी, द्वारा वर्ष २००३ में 'संस्कृत साहित्ये जल विग्यानम व् 'ऋग्वैदिक ऋषिकाएँ: जीवन एवं दर्शन' को तथा वर्ष २००४ में 'वैदिक संस्कृति संरचना'  को कालिदास अकादमी उज्जैन द्वारा भोज पुरस्कार से सामंत्रित किया जाना आपके सृजन की श्रेष्ठता का प्रमाण है। संस्कृत, हिंदी, बांग्ला  के मध्य भाषिक सृजन सेतु की दिशा में आपकी सक्रियता स्तुत्य है। वेद-विज्ञान को वर्तमान विज्ञान के प्रकाश में परिभाषित-विश्लेषित करने की दिशा में आपके सत्प्रयाह सराहनीय हैं। हिंदी छंद के प्रति आपका आकर्षण और उनमें रचना की अभिलाष आपके व्यक्तित्व का अनुकरणीय पहलू है। 
***

कोई टिप्पणी नहीं: