मंगलवार, 26 फ़रवरी 2019

नवगीत

नवगीत: 
संजीव
.
उम्र भर 
अक्सर रुलातीं 
हसरतें.
.
इल्म की
लाठी सहारा
हो अगर
राह से
भटका न पातीं
गफलतें.
.
कम नहीं
होतीं कभी
दुश्वारियाँ.
हौसलों
की कम न होतीं
हरकतें.
नेकनियती
हो सुबह से
सुबह तक.
अता करता
है तभी वह
बरकतें
२५.२.२०१५
*

कोई टिप्पणी नहीं: