मंगलवार, 26 फ़रवरी 2019

हाइकु शिव

हाइकु:
संजीव 
*
हर-सिंगार 
शशि भभूत नाग 
रूप अपार
*
रूप को देख
धूप ठिठक गयी
छवि है नयी
*
झूम नाचता
कंठ लिपटा सर्प
फुंफकारता
*
अर्धोन्मीलित
बाँके तीन नयन
करें मोहित
*
भंग-भवानी
जटा-जूट श्रृंगार
शोभा अपार
*

कोई टिप्पणी नहीं: