गुरुवार, 14 फ़रवरी 2019

कार्यशाला कुण्डलिया

कार्यशाला
कुण्डलिया 
साजन हैं मन में बसे, भले नजर से दूर
सजनी प्रिय के नाम से, हुई जगत मशहूर -मिथलेश 
हुई जगत मशहूर, तड़पती रहे रात दिन
अमन चैन है दूर, सजनि का साजन के बिन
निकट रहे या दूर, नहीं प्रिय है दूजा जन
सजनी के मन बसे, हमेशा से ही साजन - संजीव

कोई टिप्पणी नहीं: